38 वे दीक्षांत में भी लडकियो ने मारी बाजी

गोरखपुर । डीडीयू की 38वां दीक्षांत समारोह सुबह दीक्षा भवन में आयोजित होने वाले इस समारोह के मुख्य अतिथि यूजीसी के चेयरमैन प्रो. डीपी सिंह व समारोह अध्यक्ष राज्यपाल आनंदीबेन पटेल एक साथ साथ डीडीयू परिसर पहुंचे, समारोह में 51 टॉपरों को स्वर्ण पदक प्रदान किया गया, साथ ही 85 स्मृति स्वर्णपदक भी प्रदान किए गए, उपाधि प्राप्त करने वालों को राज्यपाल ने दीक्षा भी दी।

सुबह साढ़े 10 बजे कैंपस में पहुंचने के बाद राज्यपाल व मुख्य अतिथि को एनसीसी कैडेट गार्ड ने ऑफ ऑनर दिया, इसके बाद दीक्षा भवन के सामने स्थापित हो रही कुलाधिपति वाटिका का पौधरोपण हुआ, राज्यपाल यहां पीपील व पाकड़ आदि के पौधे लगाये, विद्वत परिषद की शोभायात्रा के साथ दीक्षा भवन में सामरोह का शुभारंभ हुआ, साथ ही डीडीयू के टॉपरों को स्वर्ण पदक व उपाधियां भी प्रदान किया गया।

एयरपोर्ट से सड़क मार्ग से आएं दोनों अतिथि राज्यपाल व यूजीसी चेयरमैन एयरपोर्ट से सड़क मार्ग से विवि कैंपस पहुंचे, आपको बतादे, कि दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय (DDU) का 38वां दीक्षांत (Convocation) आज संपन्न हुआ। दीक्षांत में विभिन्न संकायों के 51 टापर्स को मेडल देकर सम्मानित किया गया। कुलाधिपति आनंदीबेन पटेल और मुख्यअतिथि यूजीसी चेयरमैन प्रो.डीपी सिंह के हाथों मेधावियों को यह सम्मान दिया गया। कुलाधिपति आनंदीबेन पटेल ने दीक्षा पूरी करने वाले विद्यार्थियों के नए जीवन के लिए शुभकामनाएं देते हुए समाज को अपनी शिक्षा से लाभ पहुंचाने की अपील की, दीक्षांत कार्यक्रम का आगाज विद्वत परियात्रा के साथ प्रारंभ हुआ।

विद्वत परियात्रा में शामिल कुलाधिपति/राज्यपाल आनंदीबेन पटेल मंच पर पहुंची, फिर वंदेमातरत् के बाद मुख्य अतिथि प्रो.डीपी सिंह, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, कुलपति प्रो.वीके सिंह आदि ने दीप प्रज्जवलित किया। दीप प्रज्जवलन के बाद विवि का कुलगीत गाया गया, इसके बाद अतिथियों का स्वागत कर दीक्षांत का पारंपरिक शुभारंभ किया गया। कुलाधिपति की अनुमति से उपाधियों को संकायवार देने का सिलसिला शुरू हुआ।

उपाधि के पश्चात कुलाधिपति ने दीक्षोपदेश दिया, दीक्षोपदेश के बाद के बाद टापर्स को गोल्ड मेडल अवार्ड किया गया।, 51 गोल्ड मेडल व 85 मेमोरियल मेडल टापर्स को दिया गया, दीक्षांत में मुख्य अतिथि के संबोधन के बाद विवि के दीक्षांत की स्मारिका व पर्यावरण कैलेंडर का विमोचन किया गया।

दीक्षांत समारोह को देखने के लिए इस बार विवि ने सरकारी स्कूलों के कुछ बच्चों को भी आमंत्रित किया था, कुलाधिपति के हाथो इन बच्चों को पुरस्कृत भी किया गया, इसके पहले कुलाधिपति आनंदीबेन का संबोधन हुआ। राष्ट्रगान के बाद दीक्षांत के समापन का ऐलान हुआ, और सभी को एक अच्छे राह पर चलने की बात राज्यपाल ने की।