मास-रेड अभियान शुरु होते ही क्षेत्र में मचा हड़कंप, पढ़िए पूरी खबर जानिए क्या है “मास रेड अभियान”

अलीगढ,खैर। सरकार के द्वारा बिजली चोरी रोको अभियान जो कि पूरे उत्तर प्रदेश में लागू होने के बाद विधुत अधिकारियों की जान आफत में आ गई है। धूप और बारिश में भी विधुत अधिकारी बिजली चोरी रोकने का ऐड़ी चोटी का जोर लगा रहे है। विभाग द्वारा मास-रेड अभियान शुरु करते ही टाउन और क्षेत्र में हड़कंप मच गया है, वही बिजली चोरों के बुलंद हौसले को पस्त करते हुए राजस्व की बढ़ोतरी होना है। मास-रेड अभियान में चेकिंग के दौरान 8 जे.ई, 3 एस.डी.ओ, 5 लाइनमैन व 4 पुलिस कर्मी होते है तैनात।

मास-रेड अभियान सुबह 4 बजे से लेकर देर रात्रि तक भी चल सकता है। मास-रेड अभियान के शुरू होने से बिजली उपभोक्ताओं में ख़ौफ़ पैदा हो गया है। सरकार का यह कदम सराहनीय है और कारगर भी इससे सही विधुत ग्राहक को लाभ मिलेगा और बार बार की होने वाली ट्रिपिंग की समस्या से भी छुटकारा मिलेगा।

एस डी ओ अरविंद कुमार ने बताया विद्युत चेकिंग का ख़ौफ़ बड़े उद्योगपति में हैं जादातर लोगों के AC भी चलना बंद हो गए है।

मास रेट अभियान का प्रभाव AC मैकेनिकों पर भी पड़ा है हालांकि अक्टूबर माह तक चलने वाले इस अभियान में एक्स.ई .ऐन. चंदन प्रकाश, एस.डी.ओ अरविंद कुमार ने बताया कि मांस रेड योजना सरकार की अच्छी योजना है जिसे पूरे उत्तर प्रदेश में लागू किया गया है। इस अभियान से विद्युत कटौती बार-बार की ट्रिपिंग से निजात मिलेगी वही स्टेशन लोड भी कम होगा जो ग्रामीण अंचल में बार-बार ट्रांसफार्मर फुंकने की शिकायतें होती थी उनमें भी कमी होगी।