अवधी सेना ने आतंकवाद का फूंका पुतला, राज्यपाल व जिला अधिकारी को सौंपा ज्ञापन

हिंदू समाज पार्टी

हिंदू समाज पार्टी (Hindu Samaj Party) के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी (Kamlesh Tiwari)  की हत्या के संदर्भ में अवधी सेना (Awadhi Sena) ने आतंकवाद का फूंका पुतला

लखनऊ। 18 अगस्त 2019 को हिंदू समाज पार्टी (Hindu Samaj Party) के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी (Kamlesh Tiwari) की नृशंस हत्या के संदर्भ में अवधि सेना (Awadhi Sena) के राष्ट्रीय स्तर, प्रदेश स्तर, जिला स्तर के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने कमिश्नरी चौराहा लखनऊ पर आतंकवाद का पुतला फूंका एवं मृतक कमलेश तिवारी (Kamlesh Tiwari) के परिवार को सरकारी सुरक्षा, आर्थिक मुआवजा, सरकारी नौकरी व हत्यारों की तत्काल गिरफ्तारी के लिए महामहिम राज्यपाल उत्तर प्रदेश एवं जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा।

ये भी पढ़े : तीन करोड़ के मौत के सामान पर प्रशासन का शिकंजा 

Kamlesh Tiwari

इस अवसर पर अवधि सेना (Awadhi Sena) के राष्ट्रीय प्रमुख एडवोकेट अतुल सिंह राष्ट्रीय राष्ट्रीय उप प्रमुख एडवोकेट कुलदीप वर्मा, राष्ट्रीय प्रवक्ता एडवोकेट प्रसून शुक्ला, राष्ट्रीय संगठन मंत्री शैलेंद्र श्रीवास्तव, राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष ज्योतिंद्र द्विवेदी के साथ अधिवक्ता वीरेंद्र सिंह, दीपेश शुक्ला, पवन पाठक, उत्तम त्रिपाठी, मनोज सिंह, आलोक तिवारी, संतोष पांडे एवं सैकड़ों अधिवक्ताओं के साथ संगठन के राज्य स्तर पर जिला स्तर के पदाधिकारी शामिल हुए।

बदमाशों ने मुलाकात कर चाय पी, फिर यूं दिया घटना को अंजाम

लखनऊ में हिंदू समाज पार्टी के अध्यक्ष कमलेश तिवारी की दिनदहाड़े हत्या कर दी गई। कमलेश तिवारी की उनके ऑफिस में गला रेतकर हत्या की गई। गला रेतने के बाद उन्हें गोली भी मारी गई। बताया जा रहा है कि बदमाशों ने कमलेश से उनके ऑफिस में मुलाकात की और उनके साथ चाय भी पी। इसके बाद घटना को अंजाम देकर फरार हो गए।

कमलेश तिवारी से नाका के खुर्शीदबाग स्थित ऑफिस में दो लोग मिलने आए थे। ये दोनों मिठाई का डिब्बा लिए हुए थे, जिसमें चाकू और असलहा था। बातचीत के दौरान दोनों बदमाशों ने कमलेश के साथ चाय भी पी। इसके बाद उनका गला रेता गया और फिर गोली मारकर बदमाश फरार हो गए। कमलेश को आनन-फानन में ट्रॉमा सेंटर ले जाया गया, जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया। बदमाशों ने कमलेश तिवारी से मिलने से पहले उन्हें कॉल भी थी। अभी यह स्पष्ट नहीं है कि दोनों अपराधी कमलेश के परिचित थे या नहीं।

ये भी पढ़े : मीडिया को महिला मुद्दों पर और लिखने की ज़रूरत, ब्रेकथ्रू (Breakthrough) के कैफ़े टॉक में हुई चर्चा

कमलेश तिवारी सपा सरकार में अपने विवादित बयानों के चलते लंबे समय तक जेल में रहे और उन पर रासुका भी लगाई गई थी। उन्होंने पैगंबर मोहम्मद से जुड़ा आपत्तिजनक बयान भी दिया था जिसके चलते सरकार ने कमलेश पर रासुका लगाकर उन्हें जेल भेज दिया था। मुस्लिम संगठनों ने भी उनके खिलाफ फतवा जारी किया था और उसी दौरान उन्होंने तब सपा सरकार के कद्दावर मंत्री आजम खान को भी लेकर कई विवादित बयान दिए थे।

देखे वीडियो –