AYODHYA: मुस्लिम पक्ष अपने रुख से पलटा,मांगी माफ़ी

AYODHYA

AYODHYA: हमने बेंच का समय नष्ट किया हो तो हम इसके लिए माफी मांगते हैं-वकील राजीव धवन

राम जन्मभूमि विवाद में सुप्रीम कोर्ट में एएसआई की रिपोर्ट पर सवाल उठाने के बाद गुरुवार को मुस्लिम पक्ष अपने रुख से पलट गया और ऐसा करने पर माफी मांग ली। मामले की सुनवाई कर रही 5 जजों की संवैधानिक बेंच के समक्ष मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन ने पुरातात्विक सर्वेक्षण विभाग की रिपोर्ट पर सवाल उठाए जाने को लेकर माफी मांगी। धवन ने कहा कि वह एएसआई रिपोर्ट की प्रमाणिकता पर कोई सवाल नहीं करना चाहते। मुस्लिम पक्ष की ओर से दलीलें दे रहे धवन ने कहा, ‘यह अपेक्षा नहीं की जा सकती कि हर पेज पर हस्ताक्षर हों। रिपोर्ट की ऑथरशिप और उसके सारांश पर सवाल खड़े किए जाने की जरूरत नहीं है। यदि हमने बेंच का समय नष्ट किया हो तो हम इसके लिए माफी मांगते हैं।AYODHYA

ये भी पढ़े:सपना चौधरी ने बताया की आखिर क्यों, सलवार सूट में ही देती है स्टेज परफॉरमेंस

बता दें कि बुधवार को मामले की सुनवाई के दौरान मुस्लिम पक्ष का प्रतिनिधित्व करने वाली एक अन्य अधिवक्ता मीनाक्षी अरोड़ा ने कहा था कि एएसआई के हर चैप्टर पर लेखक का जिक्र है, लेकिन उसके सारांश में किसी लेखक का जिक्र नहीं है। चीफ जस्टिस के अलावा बेंच में शामिल जस्टिस एस.ए बोबडे, डीवाई चंद्रचूड़, अशोक भूषण और एस. अब्दुल नजीर ने कहा कि धवन ने सुनवाई की शुरुआत में कहा था कि वह अपने सवाल करने के हक को नहीं छोड़ सकते। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि यह भी कहा था कि सबूतों को खारिज नहीं किया जा सकता है क्योंकि कोर्ट ने उन्हें स्वीकार कर लिया है।

AYODHYA

इसके साथ ही बेंच ने कहा कि हिंदू और मुस्लिम पक्ष को तय समय में ही अपनी दलीलें देनी होंगी क्योंकि 18 अक्टूबर के बाद एक दिन का भी वक्त नहीं दिया जाएगा। चीफ जस्टिस गोगोई ने कहा, ’18 अक्टूबर के बाद एक भी दिन का अतिरिक्त समय नहीं मिलेगा। यदि हम 4 सप्ताह में फैसला देते हैं तो फिर वक्त देना मुश्किल होगा।’ कोर्ट ने मुस्लिम पक्ष से कहा कि वे एएसआई रिपोर्ट पर अपने सवालों को एक ही दिन में निपटा लें। अदालत ने कहा कि अक्टूबर में कई दिन अवकाश हैं और हिंदू पक्ष के सिर्फ एक ही वकील को प्रत्युत्तर के लिए मौका दिया जाएगा।

ये भी पढ़े:गोवा में न्यूड पार्टी (Nude Party), विदेशी और भारतीय महिलाएं भी होंगी शामिल

गौरतलब है कि बुधवार को मीनाक्षी अरोड़ा ने कहा था, ‘अगर कोई स्ट्रक्चर जीर्ण अवस्था में नष्ट हो जाए और उसे न बनाया जाए और बाद में उस खाली स्थल पर स्ट्रक्चर खड़ा किया जाए तो इसके खिलाफ दावा नहीं किया जा सकता। स्ट्रक्चर को विध्वंस किया जाना महत्वपूर्ण पहलू है और एएसआई की रिपोर्ट में पुराने स्ट्रक्चर को विध्वंस करने की बात नहीं है। इस पर एएसआई की रिपोर्ट चुप है।’ इस पर जस्टिस बोबडे ने कहा था, ‘एएसआई की रिपोर्ट अब केस रेकॉर्ड बन चुका है कोर्ट को जब तक रिपोर्ट में विरोधाभास नहीं लगता तब तक यह रेकॉर्ड का हिस्सा बना रहेगा। यह बात आपकी ओर से ट्रायल कोर्ट में सुनवाई के दौरान नहीं कही थी।’

बस 1 क्लिक पर जानें देश-दुनिया की ताजा-तरीन खबरें Download करें संस्कार न्यूज़ चैनल की Application नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें या फिर play store पे sanskarnews सर्च करें- लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज- https://fb.com/sanskarnewslko/
Loading...