CAA रैली – विपक्ष दुष्प्रचार कर देश का चीरहरण कर रहा : योगी 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

सीएए के समर्थन में भाजपा की गोरखपुर क्षेत्र की CAA Rally में जबरदस्त भीड़ देख मुख्यमंत्री योगी दिखे गदगद

गोरखपुर। कंपा देने वाली ठंड में सीएए के समर्थन में भाजपा की गोरखपुर क्षेत्र की रैली (CAA Rally) में जबरदस्त भीड़ देख मुख्यमंत्री योगी गदगद दिखे, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Chief Minister Yogi Adityanath) ने कहा कि, ‘ इस मुद्दे पर दुष्प्रचार के जरिए कांग्रेस और विपक्ष देश का चीरहरण कर रहे हैं। कांग्रेस के लिए यह मौका 1947 के बंटवारे के पापों का परिमार्जन करने का था लेकिन वह यह मौका भी चूक गई। उसका और विपक्ष का रवैया अत्यंत गैरजिम्मेदाराना है जिसे देश का कोई नागरिक स्वीकार नहीं करेगा।

मुख्यमंत्री (Chief Minister Yogi Adityanath) ने नागरिकों से प्रधानमंत्री को पोस्टकार्ड लिख सीएए, जम्मू-कश्मीर से धारा 370 खत्म करने, तीन तलाक के खिलाफ कानून बनाने और राममंदिर निर्माण के लिए अनुकूल माहौल बनाने के लिए उन्हें धन्यवाद देने का आह्वान किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री ने एनडीए सरकार के पहले पांच साल देश के गरीब, शोषित, वंचितों के लिए समर्पित किए।

घर बैठे फ्रेश नॉनवेज मंगवाए वो भी मार्केट से कम दाम पर, अभी डाउनलोड करे “Lucknow Meat Wala” एंड्राइड ऐप

हर गरीब के सिर पर छत, हर रसोई में गैस, हर घर तक बिजली और हर गरीब को पांच लाख रूपए के इलाज की आयुष्मान योजना का लाभ सहित गरीबों के लिए चलाई गईं तमाम कल्याणकारी योजनाएं प्रधानमंत्री के पहले कार्यकाल की उपलब्धियां हैं। जनता ने उनके काम को समर्थन देते हुए दूसरा कार्यकाल दिया तो प्रधानमंत्री ने सदियों से दबी भावनाओं को सम्मान देने का काम किया। धारा 370 की समाप्ति, तीन तलाक के खिलाफ कानून, राममंदिर इन्हीं भावनाओं को सम्मान देने की प्रक्रिया है। सीएए इसकी चौथी कड़ी है।

ये भी पढ़े : सलाम लखनऊ (Salam Lucknow) ने हिन्दी और उर्दू के लेखकों को मुसन्निफ ए अवध सम्मान 2020 से किया सम्मानित

उन्होंने जनता से वर्तमान परिदृश्य को मूकदर्शक बनकर न देखने का आह्वान करते हुए द्रौपदी के चीरहरण के समय विदुर के संवाद की कथा सुनाई और कहा कि तिहाई पाप, अपराध करने वालों, तिहाई पाप उसमें सहयोग करने वालों का होता है तो तिहाई पाप अपराध को मूकदर्शक बनकर देखने वालों का भी होता है। लोग इतनी शीतलहर में इतनी बड़़ी संख्या में रैली में इसलिए आए हैं कि वे अब मूकदर्शक नहीं बने रहना चाहते हैं।