रेप के मामले में मुकदमे से मर्माहत डक्कू ने दोषमुक्त होने तक राजनीति से किनारा कसा

 

36 साल में इस तरह के सतही आरोप न लगाने पर विरोधी दलों के नेताओं-कार्यकर्ताओं का डक्कू ने आभार जताया

गोरखपुर। बलात्कार के एक मामले में मुकदमा दर्ज होने से मर्माहत सपा के सीनियर लीडर ने आरोप लगाते हुए कहा कि राजनीतिक द्वेषवश बेवजह नाम घसीटे जाने से आहत हुँ। सपा के वरिष्ठ नेता जफर अमीन डक्कू ने बड़ा राजनीतिक फैसला किया है। उन्होंने ऐलान किया है कि जब तक वह दोषमुक्त नहीं हो जाते, पार्टी के किसी कार्यक्रम में शिरकत नहीं करेंगे।

बलात्कार के एक मामले में वादिनी को धमकी देने व गालीगलौज करने को लेकर कोर्ट के आदेश पर दर्ज हुए मुकदमे के बाद डक्कू ने यह प्रतिक्रिया दी है। डक्कू ने एक प्रेस बयान के जरिए अपनी बात रखी है। डक्कू ने कहा है कि वह 36 वर्षों से राजनीति में हैं। 1986 में राजनीति में आए और 1989 में पार्षद चुने गए।

1991 में जनता दल के टिकट पर शहर विधानसभा का चुनाव लड़े, 7 साल तक सपा के महानगर अध्यक्ष रहे और 2012 में सपा के टिकट पर ग्रामीण विधानसभा से प्रत्याशी बने। 36 साल के राजनीतिक सफर में कभी भी उनपर किसी श्मशान, कब्रिस्तान या किसी नाजायज जमीन पर कब्जा करने, सूद पर रुपया चलाने अथवा सरकारी कम्बल चुराकर बेचने या चरित्रहीनता का आरोप किसी विरोधी राजनीतिक दल के कार्यकर्ता या प्रतिद्वंदी ने उनपर नहीं लगाया जिसपर उन्हें गर्व है। वह उनके शुक्रगुजार हैं क्योंकि राजनीतिक विरोधियों ने भी कभी मर्यादा नहीं लांघी।

राजनीतिक शुचिता को बनाये रखा। पहली बार दुख हुआ कि उनके महानगर अध्यक्ष के कार्यकाल में पदाधिकारी रहे स्व. शकील अहमद के पुत्र, पूर्व महानगर सपा अध्यक्ष व पार्षद शहाब अंसारी ने भाइयों के पैतृक सम्पत्ति के बंटवारे के झगड़े में सुनियोजित और घटिया साजिश के तहत अपने ही परिवार की एक महिला को आगे कर झूठी दरख्वास्त अदालत में देकर उनपर बलात्कार के झूठे मामले में बेवजह उनपर गालीगलौज व धमकाने का आरोप लगाकर उनके 36 साल के बेदाग राजनीतिक सफर पर धब्बा लगाने की नाकाम कोशिश की है।

डक्कू ने कहा कि वे इस कुत्सित प्रयास से मर्माहत हैं लेकिन उन्हें कानून पर भरोसा है। इस बात का संतोष भी है और संबल भी मिला कि अवाम ने इस मामले में उन्हें बेदाग माना है। सैकड़ों फोन कॉल और समर्थकों के लगातार उनके पास आने से उन्हें काफी ताकत मिली है। वे अवाम के शुक्रगुजार हैं कि जिसने जहां सुना, उसने कुत्सित मानसिकता वाले इस कदम का विरोध किया है।

डक्कू ने कहा है कि वह उन लोगों में नहीं है कि दागदार छवि के बाद भी राजनीति करें इसलिए उन्होंने दिल पर पत्थर रखकर फैसला किया है कि जब तक पुलिस की विवेचना व माननीय न्यायालय के फैसले से वह निर्दोष साबित नहीं हो जाते हैं, तब तक समाजवादी पार्टी के किसी कार्यक्रम अथवा टीवी चैनलों में डिबेट में हिस्सा नहीं लेंगे। दोषमुक्त होने के बाद फिर स क्रिय राजनीति करुंगा।

बस 1 क्लिक पर जानें देश-दुनिया की ताजा-तरीन खबरें Download करें संस्कार न्यूज़ चैनल की Application नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें या फिर play store पे sanskarnews सर्च करें- लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज- https://fb.com/sanskarnewslko/
Loading...