Dara Singh : दारा सिंह 500 से ज़्यादा मुकाबले जीतने के साथ साथ रामायण में भी अपने छवि से हुए प्रसिद्ध

Dara Singh

Dara Singh : दारासिंह ने 500 से ज्यादा रेसलिंग मैच में प्रतिभाग किया हैरानी वाली बात ये है कि वो कभी मैच नहीं हारे। 1952 में एक्टिंग करते हुए नज़र आये थे।

Dara Singh: राज्यसभा में चयनित होने वाले पहले खिलाड़ी थे । साथ ही साथ उन्होंने 10 बार वर्ल्ड हैवीवेट चैंपियनशिप के विजेता रहे । उन्हें 1996 में हाल ऑफ फेम और 2018 में WWE हॉल ऑफ फेम का अवार्ड जीत चुके है 1954 में उन्हें रुस्तम ए हिंद और 1966 में रुस्तम ए पंजाब की प्रसिद्धि हासिल हुई। रामानंद सागर के रामायण सीरियल और फिल्म बजरंगबली में दारासिंह ने हनुमान की छवि से आज भी आज भी लोगो के दिलो में छाए हुए है। जानते है ग्रेट दारा सिंह के जीवन के बारे में।

ये भी पढ़े -Namish Dham: अयोध्या,मथुरा,काशी के जैसे बनेगा सीतापुर का नैमिष धाम मुख्यमंत्री ने दिए आदेश

दारा सिंह ने की अपने करियर की शुरुआत

दारा सिंह का जन्म 19 जुलाई 1928 को एक जाट फैमिली में हुआ था। उनके पिता सूरत सिंह रंधावा और मां बलवंत कौर पंजाब के निवासी थे। दारा सिंह का जब पैदा हुए थे तब भारत में अंग्रेज का शासन था। दारा सिंह ने अपने करियर की शुरुआत सिंगापुर से की । 19 वर्ष की आयु में सिंगापुर गए। वो वहां ड्रम मैन्युफैक्चरिंग मिल में काम करने लगे । यहीं से उन्होंने ग्रेट वर्ल्ड स्टेडियम के कोच हरनाम सिंह को गुरु मानकर रेसलिंग की ट्रेनिंग शुरू की । उनके गुरु ने पहलवानी करने के लिए प्रोत्साहित किया । दारा ने भी गुरु की बात मानी और पहलवानी की ट्रेनिंग लेने लगे।

दारा सिंह ने दो शादियां की

दारा सिंह ने दो शादियां की।1942 में उनका पहला विवाह पंजाबी एक्ट्रेस बचनो कौर से हुआ था । लेकिन ये रिश्ता ज्यादा दिन तक नहीं टिका और 1952 में दोनों अलग हो गए। बाद में दारा सिंह 1961 में अपना दूसरा विवाह सुरजीत कौर रंधावा से किया। जिन्होंने मरते दम तक दारा का साथ नहीं छोड़ा। दारा सिंह के 6 बच्चे हैं।

फिल्म संगदिल से की अपने फिल्मी करियर की शुरुआत

दारा सिंह की बॉलीवुड में एंट्री 1952 में आई फिल्म संगदिल से हुई । इस फिल्म में लीड एक्टर दिलीप कुमार और एक्ट्रेस मधुबाला थीं। कुछ सालों तक दारा फिल्मों में स्टंट एक्टर के रोल को किया करते रहे। 1962 में दारा लीड एक्टर के रूप में बाबूभाई मिस्त्री की फिल्म किंग कॉन्ग में आये । ये फिल्म हिट तो रही लेकिन फिल्म को बी ग्रेट सर्टिफिकेट प्राप्त हुआ।

रामायण से मिली अलौकिक पहचान

दारा सिंह को लोग सबसे ज़्यादा पसंद करने लगे जब उन्होंने 1980 में रामानंद सागर के सीरियल रामायण में हनुमान की भूमिका में आये। रामायण ने दारा सिंह को काफी प्रसिद्ध कर दिया । साथ ही 1976 में आई फिल्म बजरंगबली में भी उन्होंने हनुमान के रूप में भूमिका निभाई। बाद में दारासिंह ने कई माइथोलॉजिकल फिल्म की। दारा सिंह को 7 जुलाई 2012 को हार्ट अटैक होने के बाद अस्पताल में भर्ती करवाया गया। दो दिन बाद इलाज के दौरान पता चला कि ब्रैन उनका डैमेज हो गया है। दारा सिंह 11 जुलाई को हॉस्पिटल से घर आ गए। 12 जुलाई 2012 को दारा सिंह ने दुनिया को अलविदा कहा। और उनका अंतिम संस्कार मुंबई के जुहू में हुआ।

वीडियो में खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करें