इराक में गोला-बारुद के बीच बंधक हैं गोरखपुर के आठ नौजवान

एक युवक ने गोपालगंज डीएम को उनके व्हाट्सएप पर मैसेज कर वतन वापसी की गुहार लगायी है।

गोरखपुर ।गोरखपुर के आठ युवकों सहित देश के 30 युवकों के इराक में बंधक बनाकर रखने का मामला पिछले दिनों प्रकाश में आया था। इन बंधक बने युवको में पंजाब के 15, सीवान के पांच,गोरखपुर के 8, गोपालगंज के दो युवक शामिल हैं।

इनमें गोपालगंज के एक युवक ने गोपालगंज डीएम को उनके व्हाट्सएप पर मैसेज कर वतन वापसी की गुहार लगायी है। इसके बाद उनके बंधक होने की खबर आम हुई। गोपालगंज डीएम ने अन्य जिलों के जिलाधिकारियों को इसके बारे में सूचना दी है।

गोपालगंज के बरौली के सुरवल गांव के रहने वाले अम्बिका साह के पुत्र परमेश्वर ने डीएम को व्हाट्सएप से कुछ तस्वीर भेजी। जिसमे उसके अलावा गोपालगंज के दूसरे बंधक बने युवक वीरेन्द्र गुप्ता की तस्वीर थी।

इसके अलावा कुछ ऐसी तस्वीरे भेजी जिसमे गोला, बारूद और मोर्टार के खोखा और कारतूस भारी मात्रा में बिखरे हुए हैं। परमेश्वर ने व्हाट्सएप के जरिये बताया है कि उसके जैसे गोपालगंज के दो, सीवान के पांच, गोरखपुर के आठ और पंजाब के 15 लड़के यहां बंधक हैं। उनको जहां रखा गया है वहां सीसीटीवी हर तरफ लगा हुआ है।

पीड़ित युवको के मुताबिक गोपालगंज और सीवान के दो एजेंटों ने उन्हें डेढ़-डेढ़ लाख रूपये लेकर मस्कट में भेजा था। लेकिन फिर उन्हें इराक के किसी अज्ञात जगह पर भेज दिया गया। पीड़ित युवकों ने बंधक वाले स्थान को आईएसआईएस का ठिकाना होने की आशंका जताया है। पीड़ित युवकों ने बंधक से मुक्त बनाकर वतन वापसी की गुहार लगायी है। गोपालगंज डीएम ने सीवान के डीएम के अलावा गोरखपुर के डीएम तथा पंजाब सरकार को इसकी सूचना भेजी थी।