सपा नेताओं पर FIR दर्ज,CAB प्रोटेस्ट पर असम के मुख्यमंत्री का बड़ा बयान

- in Featured, देश
CAB Protest

CAB Protest:कोई भी असम के लोगों का अधिकार नहीं छीन सकता, हमारी भाषा या हमारी पहचान को कोई खतरा नहीं है- मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल

देश में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ हिंसक विरोध प्रदर्शन के मद्देनजर दिल्ली समेत कई राज्यों में हाई अलर्ट जारी है। यूपी के संभल में नागरिकता कानून के विरोध के दौरान 19 दिसंबर को हुई हिंसा के मामले में समाजवादी पार्टी के नेताओं, सांसद शफीकुर्रहमान बर्क और फिरोज खान सहित 17 लोगों के खिलाफ एफआइआर दर्ज की गई है। पीलीभीत में 24 घंटे तक इंटरनेट सेवाएं निलंबित रहेंगी। अहमदाबाद पुलिस ने कल नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के दौरान हिंसा के संबंध में 49 लोगों को हिरासत में लिया है। हिरासत में लिए गए लोगों में कांग्रेस कॉरपोरेटर शहजाद खान भी शामिल हैं।

ये ही पढ़े:गोरखपुर में भी सपा का प्रोटेस्ट,हजारों की संख्या में सड़क पर उतरे सपाई,पुलिस ने किया अरेस्ट

अलीगढ़ में रेड अलर्ट जारी। नागरिकता कानून का विरोध कर रहे एएमयू छात्रों पर पुलिस की कार्रवाई के बाद शुक्रवार की नमाज के मद्देनजर भारी सुरक्षा तैनात की गई। इसकी जानकारी अलीगढ़ के जिला मजिस्ट्रेट ने दी।

यूपी के सम्भल में नागरिकता कानून के विरोध के दौरान 19 दिसंबर को हुई हिंसा के मामले में समाजवादी पार्टी के नेताओं, सांसद शफीकुर्रहमान बर्क और फिरोज खान सहित 17 लोगों के खिलाफ एफआइआर दर्ज की गई है।

ये ही पढ़े:लखनऊ में नागरिकता संशोधन एक्ट के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन के बीच हंगामा

असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने कहा कि किसी भी तरह से असम का सम्मान प्रभावित नहीं होगा। हमें लोगों का समर्थन हमेशा मिलता रहेगा और राज्य में शांति के साथ आगे बढ़ेंगे।

ये ही पढ़े:जानिए क्यों छपाक फिल्म मेकर्स से नाराज़ हुई,एसिड अटैक पीड़िता लक्ष्मी अग्रवाल

असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने कहा कि मैं लोगों को आश्वस्त करना चाहता हूं कि कोई भी असम के लोगों का अधिकार नहीं छीन सकता, हमारी भाषा या हमारी पहचान को कोई खतरा नहीं है।