महिला ग्राम प्रधान ने बैंक कर्मियों पर खाता न खोलने व अभद्रता का लगाया आरोप

बैंक में बिना दलाली के कोई भी कार्य नहीं होता हैं – भरखनी ग्राम प्रधान

रिपोर्ट @ अनुराग दीक्षित

हरदोई,पचदेवरा। भरखनी ब्लॉक की ग्राम पंचायत कमालपुर की महिला प्रधान ने बैंक ऑफ इंडिया की पचदेवरा ब्रांच के बैंककर्मियों पर खाता खुलवाने के दौरान गाली-गलौज करने एवं अभद्रता करने का आरोप लगाया है। प्रधान के मुताबिक बैंक में बिना दलाली के कोई भी कार्य नहीं होता हैं। इसीलिए उनका भी खाता खोलने से बैंककर्मियों ने इंकार कर दिया। फिलहाल उन्होंने बैंककर्मियों की इस करतूत से सीडीओ समेत बैंक के उच्चाधिकारियों को अवगत कराते हुए कड़ी कार्यवाही की मांग की है। उधर पुलिस ने बैंक कर्मियों की तहरीर पर संगीन धाराओं में प्रधान प्रतिनिधि सहित 15 से 20 लोगों पर विभिन्न धाराओं में मुकद्दमा पंजिकृत किया गया है।

बताते चले कि कमालपुर ग्राम पंचायत को स्वच्छ भारत मिशन के तहत खुले में शौच मुक्त (ओडीएफ) ग्रामसभा के रूप में चयनित किया गया हैं। जिसके लिए ग्राम निधि-6 खाता खुलना है। इसके लिए डीएम द्वारा निर्देश भी दिए जा चुके है। प्रधान पुत्र ज्ञानेंद्र सिंह के मुताबिक खंड विकास अधिकारी द्वारा खाता खुलवाने हेतु फार्म को प्रमाणित करवाकर गुरुवार को उनकी मां प्रधान मुन्नी देवी बैंक ऑफ इंडिया की पचदेवरा ब्रांच पहुंची। शिकायती पत्र में आरोप लगाया गया हैं कि जब वह फार्म लेकर मैनेजर के पास पहुंची तो बिना देखे मैनेजर ने वह फार्म फेंक दिया। आरोप यह भी हैं कि बैंक मैनेजर ने महिला प्रधान से अमर्यादित आचरण करते हुए सार्वजनिक तौर पर अभद्रता की।

बैंक में बड़े पैमाने पर दलाल सक्रिय है,बिना दलाल के बैंक में एक खाता खुलवाना तक असम्भव है – प्रधान पुत्र

प्रधान पुत्र का आरोप हैं कि बैंक में बड़े पैमाने पर दलाल सक्रिय है। दलालों का काकस इतना हावी है कि बिना दलाल के बैंक में एक खाता खुलवाना तक असम्भव है। उन्होंने लगाए गए आरोपों में यह भी कहा कि बैंककर्मी सिर्फ दलालों का ही काम करते हैं इसके एवज में बैंककर्मियों को अच्छा खासा कमीशन मिलता हैं। प्रधान पुत्र ने आरोप लगाया कि उनकी मां खाता खोलने को लेकर बैंककर्मियों के सामने गिड़गिड़ाती रही लेकिन बैंककर्मियों ने खाता खोलने से साफ इंकार कर दिया। जब प्रधान पुत्र ने बीडीओ द्वारा फार्म को प्रमाणित करने की बात बैंककर्मियों को बताई तो बैंककर्मी भड़क गए। उन्होंने प्रधान पुत्र को फर्जी मामले में जेल भिजवा देने की धमकी भी दी। ज्ञानेंद्र सिंह का आरोप है कि अपनी इसी धमकी को उन्होंने शुक्रवार को क्रियान्वित भी कर दिया। एक कथित घटना में उन्हें आरोपी बनाकर मुकदमा दर्ज करा दिया गया हैं। जबकि वह कथित घटना के समयानुसार हरदोई में थे।

प्रधान प्रतिनिधि सहित 15 से 20 लोगों पर संगीन धाराओं में मुकद्दमा दर्ज

आपको बताते चले कि बैंक कैशियर की तहरीर के आधार पर पुलिस ने ज्ञानेंद्र सिंह समेत 15 से 20 अज्ञात लोगों के खिलाफ अभियोग पंजीकृत कर लिया है। इसकी जांच शुरू कर दी गई हैं। प्रधान पुत्र ज्ञानेंद्र के मुताबिक वह हर जांच के लिए तैयार हैं। उन्होंने कहा कि बैंककर्मियों ने साजिश के तहत उन्हें फसाया है। उन्होंने बताया कि मुख्य विकास अधिकारी को शिकायती पत्र देकर बैंककर्मियों के अमर्यादित आचरण से अवगत कराया है। साथ ही उन पर कार्यवाही की भी मांग की हैं। इसके अलावा उन्होंने बीओआई के जोनल मैनेजर से भी शाहाबाद में मिलकर बैंककर्मियों की करतूत से अवगत कराया हैं।