हाफिज-ए-मिल्लत का पैगाम “जमीन के ऊपर काम, जमीन के नीचे आराम”

उर्स-ए-पाक अकीदत से मनाया गया। 

गोरखपुर 7 फरवरी ।  नार्मल स्थित दरगाह हजरत मुबारक खां शहीद अलैहिर्रहमां पर बुधवार को दीनी तालीम के लिए एशिया में अलग पहचान रखने वाली अरबी यूनिवर्सिटी अलजामियतुल अशरफिया मुबारकपुर के संस्थापक हाफिज-ए-मिल्लत हजरत शाह अब्दुल अजीज अलैहिर्रहमां का 44वां उर्स-ए-पाक अदबो एहतराम के साथ मनाया गया। सुबह फज्र की नमाज के बाद कुरआन ख्वानी हुई। चादरपोशी व कुल शरीफ की रस्म अदा कर लंगर बांटा गया।

इस मौके पर उलेमा ने हाफिज-ए-मिल्लत की दीनी व दुनियावी खिदमात पर रौशनी डाली। संचालन करते हुए दरगाह मस्जिद के इमाम मौलाना मकसूद आलम मिस्बाही ने कहा कि हाफिज-ए-मिल्लत 20वीं सदी की अजीम शख्सियत थे। उन्होंने तालीम व तरबीयत के मैदान में बड़ा कारनामा अंजाम दिया।

बेलाल मस्जिद अलहदादपुर के इमाम कारी शराफत हुसैन कादरी ने कहा कि हाफिज-ए-मिल्लत ने कौम की दीनी और दुनियावी रहनुमाई की। मदरसा मिस्बाहुल उलूम को अरबी यूनिवर्सिटी अलजामियतुल अशरफिया का रूप दिया। आपने इत्तेहाद व इत्तेफाक का संदेश दिया, ताकि पूरी दुनिया में इत्तेहाद व इत्तेफाक का माहौल बने और अमन शंति कायम हो सके।

नूरी मस्जिद तुर्कमानपुर के इमाम मौलाना असलम रज़वी ने कहा कि हाफिज-ए-मिल्लत पूरे तौर पर शरीयत के आमिल थे। लोगों को शरीयत समझाने वाले थे और अमल कराने वाले भी थे। अपनी पूरी जिंदगी अल्लाह, रसूल और इंसानों की सेवा में गुजार कर दीन और दुनिया दोनों में अपना नाम रौशन कर लिया। आपका पैगाम था कि ” जमीन के ऊपर काम, जमीन के नीचे आराम” यानी जब तक इंसान जिंदा रहे मजहब, मुल्क व इंसानियत की सेवा कर नेक अमल करता रहे ताकि मौत के बाद कब्र में चैन व सुकून हासिल हो सके।

नात शरीफ गुलाम जीलानी, सरफरोज अहमद, शाकिब रजा आदि ने पेश की। इससे पहले उर्स का आगाज कारी अबू हुजैफा ने कुरआन शरीफ की तिलावत से किया। अंत में कुल शरीफ की रस्म अदा की गयी।

चादरपोशी के बाद सलातो-सलाम पढ़कर कौमों मिल्लत की भलाई व मुल्क में अमनों सलामती की दुआ की गयी। लंगर व शीरीनी हर खासो आम में तकसीम की गयी।

उर्स में हाजी मो. रफीक, मो, शरीफ, कारी नूरुल एैन निज़ामी, मो. नसीम, हाजी कमरुद्दीन, जमशेद अहमद, एजाज गोरखपुरी, अब्बास अली, हाफिज सेराज, हाफिज अब्दुल अजीज, सैफ रजा आदि सहित दूर-दराज से काफी संख्या में आये अकीदतमंदो ने शिरकत की।

बस 1 क्लिक पर जानें देश-दुनिया की ताजा-तरीन खबरें Download करें संस्कार न्यूज़ चैनल की Application नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें या फिर play store पे sanskarnews सर्च करें- लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज- https://fb.com/sanskarnewslko/
Loading...