डेयरी किसानों की आय बढ़ाने के लिए HCL ने बनास डेयरी के साथ की भागीदारी

डेयरी

इस साझेदारी का उद्देश्य उत्तर प्रदेश के हरदोई जिले में दुग्ध उत्पादन को बढ़ाना और किसानों की डेयरी गतिविधियों से आय को बढ़ाना होगा

लखनऊ। HCL फाउंडेशन की एक महत्वाकांक्षी परियोजनाए जो कि ग्रामीण भारत के लिए एक स्केलेबल और रिप्लिकेबल डेवलपमेंट मॉडल बनाने की दिशा में काम कर रही है, ने डेयरी किसानों की आय वृद्धि सुनिश्चित करने के लिए आज बनासकांठा डिस्ट्रिक्ट कोऑपरेटिव मिल्क प्रोड्यूसर्स यूनियन लिमिटेड के साथ अपनी साझेदारी की घोषणा की जिसे एशिया का सबसे बड़ा दूध एग्रीगेटर भी कहा जाता है यूनियन ऑफ गुजरात कोऑपरेटिव मिल्क मार्केटिंग फेडरेशन का सदस्य जो डन्स् ब्रांड नाम से दूध और दूध के उत्पाद बेच रहा है। क्लिक करे

पिछले दो वर्षों में समुदाय द्वारा कार्यान्वित डेयरी इंटरवेंशनए ग्रामीण आजीविका के अवसरों में सुधार के प्रयासों के हिस्से के रूप मेंए बनास डेयरी द्वारा समर्थित और आगे बढ़ाया जाएगाए जो उत्तर प्रदेश में संगठन की पहुंच का और अधिक विस्तार करेगा।

HCL समुदाय वर्तमान में हरदोई जिले के तीन ब्लॉक, कछौना बेहेंदर और कोथवन में काम कर रहा है। इन क्षेत्रों को छह मापदंडों पर विकसित करने के लिए जिसमें कृषिए शिक्षाए स्वास्थ्यए बुनियादी ढाँचाए आजीविकाए और वाश वॉटर सेनिटेशन और हाइजिनद् शामिल हैं।

आर्थिक रूप से हाशिए पर रहने वाले परिवारों की मदद करने के लिए समुदाय ने कई अभिनव समाधानों को लागू किया है जो परिवारों को कृषि संबंधी प्रथाओं के माध्यम से अपनी आय बढ़ाने में मदद करते हैं। समुदाय 175 गांवों में दूध की गुणवत्ता में सुधारए दूध उत्पादन बढ़ानेए गाँव स्तर पर स्वतरू दूध संग्रह इकाइयों के माध्यम से उचित गुणवत्ता मूल्यांकन सुनिश्चित करने और दूध प्रसंस्करण इकाइयों के लिए विश्वसनीय परिवहन चैनल स्थापित करने के लिए काम कर रहा है।

ये भी पढ़े: शिवपाल ने रोड़ शो के जरिये दिखाई अपनी ताकत

इसके अलावाए इंटरवेंशन ने पशु प्रबंधन प्रथाओं को बेहतर बनाने और मवेशियों और पशुओं के लिए निवारक स्वास्थ्य सेवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करने की दिशा में काम किया है। इस पहल ने फरवरी 2017 से मार्च 2019 के बीच 9025 किसानों को कुल रुण् 26ण्71 करोड़ का राजस्व अर्जित करने में मदद की है।

HCL समुदाय और बनास डेयरी के बीच साझेदारी शुरू में तीन साल की अवधि के लिए है यमई 2019 से शुरूद्ध जो आगे के विस्तार के लिए दो संगठनों के बीच समझौते के अधीन होगी। वीडियो देखे

डेयरी

सुश्री नवप्रीत कौरए निदेशकए HCL समुदाय ने इस अवसर पर कहा उत्तर प्रदेश देश में दूध का सबसे बड़ा उत्पादक हैए जो भारत के कुल दूध उत्पादन में 17./.योगदान देता है। हालांकि डेयरी क्षेत्र काफी हद तक असंरचित हैए जहां छोटे और सीमांत किसानए जो कम मात्रा में अधिशेष दूध का उत्पादन करते हैंए के पास उचित बाजार मूल्य पर उस दूध को बेचने के लिए कोई उचित चैनल नहीं है। इसके अलावाए दूध की गुणवत्ता में अक्सर बड़े पैमाने पर मिलावट होती है।

भ्ब्स् ैंउनकंल प्रक्रियाओं को लागू करने की दिशा में काम कर रहा है जो यह सुनिश्चित करेगी कि दुग्ध विपणन का लाभ बिचैलियों के बजाय सीधे डेयरी किसानों तक जाए। यह साझेदारी भ्ब्स् ैंउनकंल के लिए एक सच्ची सफलता है क्योंकि यह साबित करती है कि हमारी अवधारणा व्यवसायिक रूप में व्यवहार्य है और इसे राज्य या बड़े देश के अन्य हिस्सों में दोहराया जा सकता है। हम बनास डेयरी के साथ साझेदारी पर अत्यंत उत्साहित हैं जो अमूल को दूध का सबसे बड़ा आपूर्तिकर्ता है।

बनास डेयरी के प्रबंध निदेशक श्री कामराजभाई आरण् चैधरी ने कहा,हम उत्तर प्रदेश में अपने परिचालन का विस्तार करने के लिए बहुत उत्सुक थे और जिस मॉडल को एचसीएल समुदाय ने लागू किया है वह प्रशंसनीय है। हम भ्ब्स् ैंउनकंल के साथ साझेदारी करके खुश हैं।

ये भी पढ़े: बंगाल में PM मोदी की दो रैलियां, यह पक्षपातपूर्ण है, चुनाव आयोग दबाव में काम कर रहा है – मायावती

बनास डेयरी शोषण के खिलाफ है और यह किसानों को बेहतर पारिश्रमिक सुनिश्चित करके किसानों के हित की रक्षा करता है। उत्तर प्रदेश एक भैंस प्रमुख बेल्ट है और निजी कंपनियां विभिन्न मूल्य नीतियों को लागू करके किसानों को कम कीमत देते हैं। बनास डेयरी की किसानण्केंद्रित मूल्य निर्धारण नीति निजी संस्थाओं को दूध के लिए तुलनात्मक रूप से अधिक कीमत देने के लिए मजबूर करेगी। बनास डेयरी सटीक वजन और परीक्षण तंत्र को लागू करने के बारे में बेहद खास है जो पारदर्शिता और गुणवत्ता नियंत्रण सुनिश्चित करेगा।

हम डेयरी किसानों को अच्छी गुणवत्ता वाली फीड भी प्रदान करेंगे सब्सक्राइब करे जो यह सुनिश्चित करेगा कि उत्पादित दूध की गुणवत्ता में उल्लेखनीय सुधार हो। आज तकए हमने गुजरात के बाहर के किसानों को ये सेवाएं प्रदान नहीं की हैं, जो हमारा गृह राज्य है लेकिन मेरा मानना है कि इस परियोजना में काफी संभावनाएं हैं और हम इसके परिणामों को देखने के लिए उत्साहित हैं।

बस 1 क्लिक पर जानें देश-दुनिया की ताजा-तरीन खबरें Download करें संस्कार न्यूज़ चैनल की Application नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें या फिर play store पे sanskarnews सर्च करें- लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज- https://fb.com/sanskarnewslko/
Loading...