मानसून की पहली बारिश में मुख्यमंत्री के शहर की हालत बद से बदतर

लोगो के प्रतिष्ठानो और घरों में घुसा पानी, व्यापारियों का लाखो के नुकसान का अनुमान

गोरखपुर। गोरखपुर के कई लोगों को बुधवार की सुबह जब नींद खुलती है तो घर में पानी भरा रहता है। उसकी चारपाई भी पानी में डूब गई होती है। अपने चारों तरफ पानी और ऐसी हालत में कुछ कर न पाने की मजबूरी और बेबसी।

4 घंटे में 143 मिमी हुई बारिश, नगर निगम की पोल खुली

घरों-दुकानों में पानी भरने से परेशान लोगों ने हमेशा की तरह कहा-पहली ही बारिश ने नगर निगम की पोल खोल दी। सड़कों पर चारों तरफ पानी लग गया। रात से ही कई मोहल्लों में बिजली नहीं है। मौसम विभाग ने जानकारी दी बारिश रात डेढ़ बजे से सुबह साढ़े पांच बजे तक लगातार होती रही। कुल 143 मिलीमीटर बारिश हुई। साढ़े पांच बजे के बाद भी छिटपुट बारिश होती रही। बुधवार सुबह 40 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से पूर्व उत्तर दिशा से हवा चली।

बहरहाल, इन तथ्यात्मक बातों से परे हालात यह हैं कि बेतियाहाता और दाउदपुर में सड़कों पर घुटनों तक पानी लग गया है। लोगों का कहना है कि आज तक घरों के सामने इतना पानी कभी नहीं आया। पहली बार ऐसा हुआ है। मोहल्ले के करीब 90 प्रतिशत घरों में पानी घुस गया। यही हाल शिवपुरी, शक्तिनगर, मंडी रोड, शिवजी नगर, महादेवपुरम सहित अन्य कई मोहल्लों का है। लोग घर के सामानों को ऊपर कर रहे हैं। उनका कहना है कि ऐसा पहली बार हुआ है कि पहली बारिश में ही घरों में पानी घुस गया है। बिछिया रेलवे कॉलोनी में भी घरों में पानी घुस गया है। राप्ती काम्पलेक्स की दुकानों में पानी घुसने से लाखों रुपयों का नुकसान बताया जा रहा है। वही साहबगंज,ख़ूनीपूर,गल्ला मंडी,लालडिग्गी, में भी लोगो के दुकानों में पानी घुस गया,कपड़ा के थोक व फुटकर व्यवसायिक क्षेत्र उर्दुबाज़ार, घण्टाघर, रेती चौक, गीता प्रेस में भी लोगो के प्रतिष्ठानों में भंयकर पानी घुस गया है बताया जा रहा है इन इलाकों में व्यापारियों का करोड़ो का नुकसान हुआ है।

4 घंटे में ढह गया 4 महीने पहले बना नाला

जेल बाईपास रोड पर चार महीने पहले बना नाला चार घंटे की बारिश में ही भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गया। बताते हैं कि स्थापना निधि से इस नाले पर कुल 51 लाख रुपए खर्च हुए थे। अब नगर निगम के अफसर तय करेंगे कि उन 51 लाख रुपयों को किस तरह उपयोग हुआ कि चार ही महीने में चार घंटे की बारिश से नाला ढह गया।

पटरी पर भी पानी, शहर के ज्यादातर नाले जाम

पिपराइच में रेल की पटरी पर भी पानी लग जाने की सूचना है। शहर के सिविल लाइन्स एरिया की कालोनियों में भी पानी भर गया है। खूनीपुर से साहबगंज तक के सारे नाले जाम हो गए हैं।

चहारदीवारी गिरी, कई घर खतरे में

शिवपुर शाहबाजगंज वार्ड की मलिन बस्ती में पोखरे की चहारदीवारी गिर गई है। कई घर खतरे में बताए जा रहे हैं। दिव्यनगर, महादेवपुरम, मालवीयनगर, वीरबहादुर पुरम और गोरखपुर-देवरिया मार्ग पर स्थित सिंघड़िया में सड़कों पर पानी लगा हुआ है।

साइलेंसर में घुसा पानी, गाड़ियां बंद 

सड़कों पर जलभराव की वजह से दो पहिया और चार पहिया वाहनों के साइलेंसरों में पानी घुस गया। लोग अपनी बाइक्स और कारों को किसी तरह धक्का देकर पानी से बाहर निकालने की कोशिश करते नज़र आए। इस दौरान सड़कों पर कहीं मैकेनिक भी नहीं दिखे कि लोग अपनी गाड़ियां ठीक करा सकें।

बढ़ता जा रहा आंकड़ा, 8:30 बजे तक 232 मिमी बारिश

रात डेढ़ से सुबह साढ़े पांच बजे तक लगातार 143 मीटर की बारिश के बाद भी छिटपुट बारिश से आंकड़ा बढ़ता जा रहा है। सुबह साढ़े आठ बजे तक 232.6 मिमी बारिश हो चुकी थी। मौसम विभाग का कहना है कि पिछले दस सालों में यह दूसरा मौका है जब जून में 24 घंटे इतनी अधिक बारिश हुई है। इससे पहले 2013 में 342 मिमी बारिश हुई थी।