लेखपाल संघ के बेमियादी हड़ताल से नहीं बन रहे आय, जाति और निवास प्रमाणपत्र

सभी तहसील मुख्यालयों पर लेखपालों ने धरना देने के साथ ही एसडीएम के जरिए मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजा।

गोरखपुर । वेतन वृद्धि समेत एक दर्जन मांगों को लेकर लेखपालों ने मंगलवार से काम ठप कर दिया। सभी तहसील मुख्यालयों पर लेखपालों ने धरना देने के साथ ही एसडीएम के जरिए मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजा। लेखपालों का कार्यबहिष्कार सात जुलाई तक जारी रहेगा। इसके बाद भी मांगे नहीं पूरी होने पर उन्होंने नौ जुलाई से अनिश्चित कालीन हड़ताल शुरू करने की चेतावनी दी है।लेखपालों की हड़ताल की वजह से मंगलवार को जिले में आय, जाति, निवास समेत कई तरह के प्रमाण पत्रों को बनाने के साथ ही जमीन की पैमाइश आदि का काम ठप हो गया।

लेखपालों ने संपूर्ण समाधान दिवस का भी बहिष्कार कर दिया है। पूरे दिन सदर तहसील समेत कई तहसीलों में कॉलेजों में प्रवेश आदि के लिए विद्यार्थी और उनके परिजन जाति-आय और निवास प्रमाण पत्र बनवाने के लिए दौड़ते रहे।

लेखपाल संघ के जिलाध्यक्ष नीलकंठ दूबे और मंत्री जगदीश का कहना है कि वेतन विसंगति, एसीपी व पेंशन विसंगति तथा लेखपाल सेवा नियमावली में संशोधन व भत्तों में वृद्धि आदि मांगों को लेकर संघ के आह्वान पर पूरे प्रदेश में आंदोलन चल रहा है। उन्होंने कहा कि अब उनका आंदोलन तब तक जारी रहेगा जबतक की उनकी मांगे नहीं पूरी हो जाती। सदर तहसील में तहसील अध्यक्ष दिनेश कुमार पंकज, मंत्री जावेद खान के नेतृत्व में लेखपालों ने धरना दिया।