जॉनसन एंड जॉनसन बेबी शैंपू प्रॉडक्ट अब नहीं बिकेगा उत्तरप्रदेश में, औषधि नियंत्रक ने लगाया प्रतिबंध

Johnson & Johnson Baby Shampoo

उत्तरप्रदेश में ड्रग कंट्रोलर ने सभी जिलों के डीएम को लिखा लेटर, जिलों को सप्लाई उत्पाद वापस लेने के आदेश

लखनऊ। जॉनसन एंड जॉनसन के बेबी शैंपू प्रॉडक्ट अब उत्तरप्रदेश में नहीं बिकेगा। यह निर्णय शैंपू में रसायनिक तत्व फार्मेल्डिहाइड पाए जाने के बाद लिया गया है। खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन (एफएसडीए) की टीम ने बुधवार शाम लखनऊ के ट्रांसपोर्ट नगर स्थित कंपनी के डिपो पर छापेमारी कर सात नमूने लिए हैं। इनमें शैंपू, बेबी ऑयल, मसाज ऑयल, माश्चराइजर, फेस क्रीम के नमूने शामिल हैं।

एफएसडीए के औषधि नियंत्रक एके जैन ने उत्तरप्रदेश में जॉनसन एंड जॉनसन बेबी शैंपू प्रॉडक्ट की बिक्री पर लगाया रोक

एफएसडीए के सहायक आयुक्त रमाशंकर ने बताया कि जयपुर (राजस्थान) में जॉनसन एंड जॉनसन के शैंपू (बैच नंबर बीबी 58204) में फार्मेल्डिहाइड की मिलावट पाई गई थी, जो कि बच्चों के लिए बहुत हानिकारक है। इसके बाद एफएसडीए के औषधि नियंत्रक एके जैन ने उत्तरप्रदेश में शैंपू की बिक्री पर रोक लगा दी।

Johnson & Johnson Baby Shampoo

ये भी पढ़े: पाकिस्तान में सूफी दरगाह दाता दरबार के पास हुआ धमाका, 5 पुलिसकर्मियों समेत 9 लोगों की मौत

रमाशंकर ने बताया कि ट्रांसपोर्ट नगर डिपो से पूरे यूपी में 16704 शैंपू 100 एमएल के बचे गए थे। जिन्हें तीन दिनों में मार्केट से वापस मंगाने के आदेश दिए गए हैं। वापस मंगाने के बाद उन्हें सीज करके नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी। जयपुर को यह शैंपू कंपनी के लखनऊ स्थित स्टोर से ही सप्लाई किया गया था। इस विशेष बैच के उत्पाद बाजार से कंपनी को वापस लेना है। लखनऊ स्टोर में पड़ताल के दौरान पता चला कि बीबी-58204 बैच के 100 मिलीलीटर के शैंपू के 16,704 पैक बलरामपुर, कानपुर, आजमगढ़, वाराणसी, बाराबंकी, फैजाबाद, प्रयागराज समेत पूरे उत्तरप्रदेश में सप्लाई किए गए हैं। फिलहाल, इनकी बिक्री पर रोक लगा दी गई है। एके जैन ने बताया कि इस मामले में सभी जिलों के डीएम को भी इस बारे में पत्र लिखा जा रहा है।

इस शैंपू से त्वचा, सांस संबंधी बीमारियों के साथ ही कैंसर भी होने का खतरा

रमाशंकर के मुताबिक, फार्मेल्डिहाइड कार्बन यौगिक है। इससे त्वचा, सांस संबंधी बीमारियों के साथ ही कैंसर भी होने का खतरा रहता है। इसका प्रयोग खाद्य सामग्री और शरीर पर प्रयोग होने वाले उत्पादों में प्रतिबंधित किया गया है। शैंपू या तेल में इसके मिले होने से पसीना नहीं निकल पाता है। यह रोम छिद्रों को बंद करने के साथ ही त्वचा एवं आंतरिक कोशिकाएं को भी प्रभावित करता है।

बस 1 क्लिक पर जानें देश-दुनिया की ताजा-तरीन खबरें Download करें संस्कार न्यूज़ चैनल की Application नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें या फिर play store पे sanskarnews सर्च करें- लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज- https://fb.com/sanskarnewslko/