जर्जर भवन समेत स्कूल में अन्य सुविधाओं का अभाव

प्राथमिक विद्यालय खनपुरवा में न तो स्वच्छ पानी-पीने की उचित व्यवस्था है और न ही यहाँ अभी-तक शौचालय का निर्माण करवाया गया है

श्रावस्ती। उत्तर प्रदेश सरकार भले ही बेहतर शिक्षा देने की तमाम दावे कर रही हो लेकिन ये सारे दावे श्रावस्ती जिले के प्राथमिक विद्यालय खनपुरवा में बेईमानी साबित हो रही है हरिहरपुर-रानी विकास खंड के ग्राम-सभा अमवा में निर्मित इस स्कूल में मूलभूत सुविधाओं की स्थिति अत्यंत खराब है।

प्राथमिक विद्यालय खनपुरवा में न तो स्वच्छ पानी-पीने की उचित व्यवस्था है और न ही यहाँ अभी-तक शौचालय का निर्माण करवाया गया है ऐसे में स्कूल में पढ़ने वाले छात्र-छात्राएं खुले में शौच करने को मजबूर है।

वहीं अगर बात की जाय स्कूल भवन की तो स्कूल भवन काफी जर्जर हालत स्कूल के शिक्षक बताते हैं इनदिनों में स्कूल के छत से पानी टपकता रहता है। अगर बात की जाय स्कूल भवन की तो देखने से ही लगता है कि स्कूल का पेन्ट सालो से नही करवाया गया है।

वर्तमान में विद्यालय में 120 छात्र नामांकित हैं लेकिन उपस्थिति सिर्फ 50 बच्चो की ही है। वहीं इन छात्रों को सही से “का का हा रा” तक नही आता। पुरे मामले पर जब हमारे संवाददाता ने इस स्कूल के प्रभारी प्रधान शिक्षक वृजेंद्र कुमार जायसवाल से बात की तो उन्होंने क्या कहा आप भी सुनिए…..

अब अगर बात करें यहां के अन्य मूलभूत सुविधाओं की तो स्कूल में एक भी सफाई कर्मी की तैनाती नही है जिससे परिसर में गन्दगी का माहौल बना रहता है। वहीं अगर देखा जाय तो स्कूल में कमरे, प्रयोगशाला, शौचालय, फर्नीचर, ब्लैक बोर्ड, खेल के मैदान एवं पीने की पानी की सुविधाएं नहीं हैं।विद्यालय में बच्चे उपस्थित ही नहीं रहते, क्योंकि माता-पिता बच्चे का नाम लिखवाकर उसे स्कूल भेजने की बजाय अपने साथ मजदूरी पर ले जाते हैं एवं कभी-कभार ही वह विद्यालय आता है।

अब इस स्कूल की स्थिति देखने के बाद सरकार के बेहतर शिक्षा वाले दावों पर सवाल उठना लाजिमी है?
क्या ऐसे ही पढ़ेगा भारत का भविष्य तो कैसे बढ़ेगा?