Medanta Superspeciality Hospital : मेदांता सुपरस्पेशियालिटी हॉस्पिटल में 9 वर्ष के बच्चे का हुआ लिवर ट्रांसप्लांट

Medanta Superspeciality Hospital

Medanta Superspeciality Hospital :मेदांता सुपरस्पेशियालिटी हॉस्पिटल में पहली बार 9 वर्ष के बच्चे का लिवर ट्रांसप्लांट किया। बच्चे का लिवर ख़राब होने की वजह से ट्रांसप्लांट की आवश्यकता पड़ी थी बच्चे की मां ने लीवर देकर बच्चे की जान बचाई।

Medanta Superspeciality Hospital :डॉक्टर एएस सुईन ने कहा कि बच्चे का लिवर पूरी तरह से ख़राब हो गया था उसे हेपेटाइटिस ए का इंफेक्शन हो गया था। जिसकी वजह से बच्चे का लीवर पूरी तरीके से फेलियर हो गया। साथ ही उन्होंने कहा कि 3 फीसदी मरीजों में ऐसी समस्याएं होती है। साथ ही साथ बच्चे के दिमाग में भी सूजन आ गयी थी। बच्चा 3 दिन तक सहारा अस्पताल में रहा, जहां उसकी हालत नाजुक थी इसके बाद बच्चे को मेदांता अस्पताल रेफर किया गया। मेदांता में 12 घंटे के अंदर डोनर और मरीज की जांचें हुई और बाद में ट्रांसप्लांटेशन (Transplantation) शुरू किया गया।

इसे भी पढ़े -इस फिल्म में नहीं करेंगे आर माधवन में नहीं करेंगे काम जाने क्या है वजह

आसान नहीं पीडियाट्रिक लिवर ट्रांसप्लांट (Pediatric Liver Transplant)

एएस सोइन ने बताया की पीडियाट्रिक लिवर ट्रांसप्लांट आसान नहीं होता । क्योंकि बच्चों के धमनी, पोर्टल वेन और पित्त नलिकाओं के छोटे होने की वजह से टेक्निकली कठिन है। 450 से भी ज़्यादा पीडियाट्रिक लिवर ट्रांसप्लांट(Pediatric Liver Transplant) में हमे उपलब्धि होने की वजह से देश की सबसे बड़ी शाखा में से एक मेदांता अस्पताल लखनऊ में लिवर सम्बन्धी समस्याओं से निजात दिलाने के मामले में सर्वश्रेष्ठ है। डॉ. रोहन चौधरी ने इस ट्रांप्लांटेशन के बारे कहा कि ऑपरेशन के बाद तेजस के इम्यूनिटी सिस्टम को कमजोर करने के लिए इम्यूनोसप्रेसेन्ट (Immunosuppressant) दवाएं दी गई। जिससे उसका शरीर उसके अंदर अपनी मां के लिवर को रिजेक्ट न करे। एक बात और भी है इम्युनिटी सिस्टम कमजोर होने की वजह से संक्रमण का खतरा ज़्यादा रहता है।

पीडियाट्रिक लिवर ट्रांसप्लांट (Pediatric Liver Transplant) में करे सावधानिया

इस ट्रांसप्लांटेशन सावधानियो की बहुत अधिक आवश्यकता है जिसमे मरीज को 1 साल तक कच्ची सब्जियां या ज़्यादा तैलीय पदार्थ, चिकना भोजन और बाहर का खाना खाने की अनुमति नहीं है। साथ ही साथ धूल,मिटटी से दूर रहना और भीड़ भाड़ वाले इलाको में नहीं जाना ।हमेशा मास्क पहनकर रहना।समय -समय पर दवाएं लेते रहना और नियमित खून की जाँच कराते रहना कराते रहना चाहिये।

वीडियो में खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

Click Here & Download Now The Lucknow Meat Wala