लोकमत सम्मान-2018 से सम्मानित हुई 18 विभूतियाँ

केन्द्रीय मंत्री शिव प्रताप शुक्ल ने किया सम्मानित, भारतीय सेना को समर्पित रहा सम्मान समारोह

नए यू-ट्यूब चैनल द पब्लिक का उद्घाटन केन्द्रीय मंत्री शिव प्रताप शुक्ल ने किया श्रीमती रसूलन बीबी (पत्नी शहीद वीर अब्दुल हमीद, परमवीर चक्र विजेता), श्री नरेन्द्र नाथ धर दुबे (कीर्ति चक्र विजेता) तथा कर्नल समर विजय सिंह (सेवानिवृत) की मौजूदगी ने लगाएं चार चाँद

लखनऊ। रविवार को राजधानी के गोमती नगर स्थित संगीत नाटक अकादमी में लोकमत सम्मान के छठवें संस्करण का आयोजन किया गया जिसमें लोकमत सम्मान-2018 से 16 विभूतियों को तथा शक्ति सम्मान एवं जनक सम्मान से एक-एक विभूति को केन्द्रीय मंत्री शिव प्रताप शुक्ल ने सम्मानित किया।

ग़ौरतलब है कि स्थापना दिवस, 10 जून पर प्रतिवर्ष लोकमत द्वारा विभिन्न श्रेणियों में प्रदेश की ऐसी शख्शियतों को सम्मानित किया जाता रहा है जिन्होंने ज़मीनी स्तर पर समाज के लिए बेहतर योगदान दिया है। लोकमत सम्मान के अन्तर्गत शिक्षा, स्वास्थ्य, पर्यावरण, दिव्यांग, हस्तशिल्प, कला एवं संस्कृति, क्रीड़ा, कृषि, महिला, व्यवसाय, साहित्य, कानून, जनसंचार तथासार्वजनिक जीवन के क्षेत्रों में पुरस्कार प्रदान किए जाते है और इस वर्ष से सेना को भी लोकमत सम्मान से जोड़ा गया है।

लोकमत सम्मान-2018 से विभूषित होने वाली विभूतियों में शिक्षा श्रेणी में मित्र प्रकाश पाण्डेय, गोरखपुर, स्वास्थ्य में डॉ बृजेश कुमार, बलरामपुर अस्पताल, लखनऊ, पर्यावरण में डॉ उत्कर्ष शुक्ला, उप निदेशक प्राणी उद्यान लखनऊ, दिव्यांग श्रेणी में इरफाना तारिक, गोरखपुर एवं राजन बाबू, गोण्डा, हस्तशिल्प में डॉ रजनी कान्त, बनारस, कला एवं संस्कृति में निर्माता-निर्देशक प्रज्ञेश सिंह, अमेठी, क्रीड़ा में बी एन मिश्रा, पड़रौना, कृषि में डॉ राम कठिन सिंह, मऊ, महिला श्रेणी में तब्बसुम नाज़, पीलीभीत, व्यवसाय में ट्रांसपेरेंट ओवरसीज़, फ़िरोज़ाबाद, साहित्य में महेन्द्र भीष्म, लखनऊ, कानून में पूर्व आईएएस तथा एडवोकेट एस एन शुक्ल, लखनऊ, जनसंचार में सूर्य प्रकाश राय, कुशीनगर, सार्वजनिक जीवन में मो० ज़माल,उरई, सेना की श्रेणी मेंनरेन्द्र नाथ धर दुबे (कीर्ति चक्र विजेता), लखनऊ, और जनक सम्मान से शरद पटेल  तथा शक्ति सम्मान से ललिता गौतम और श्रीमती रसूलन बीबी (पत्नी शहीद वीर अब्दुल हमीद, परमवीर चक्र विजेताको सम्मानित किया गया।

रविवार शाम संगीत नाटक अकादमी में लोकमत सम्मान समारोह का उद्घाटन दीप प्रज्वलन कर राष्ट्रगान से किया गया। मुख्य अतिथि केन्द्रीय मंत्री शिव प्रताप शुक्ल का स्वागत लोकमत हिन्दी के सम्पादक आनन्द वर्धन सिंह ने किया।

पूरे प्रदेश से आएं लोगों को सम्बोधित करते हुए लोकमत जयपुर व बीकानेर के सम्पादक अशोक माथुर ने कहा कि पत्रकारिता एक ऐसा माध्यम है जो समाज के हर तबके को आईना दिखाने का कार्य करता है और इस प्रकार के सम्मान समारोह से समाज को बल मिलता है।

सेना को समर्पित लोकमत सम्मान की प्रशंसा करते हुए ले० ज० आर पी साही (सेवानिवृत) ने कहा कि जिन विभूतियों को सम्मान प्राप्त हुआ वे अब दुगनी ताकत से समाज के लिए काम करेंगे और इससे प्रदेश के अन्य लोगों को भी हौंसला मिलेगा।

कर्नल समर विजय सिंह (सेवानिवृत) ने भारतीय सेना को सलाम करते हुए अपने अनुभव साँझा किए, उन्होंने सेना में भर्ती के बारे में बताया।

ए के सिंह ने लोकमत हिन्दी के नए यू-ट्यूब चैनल द पब्लिक का परिचय कराते हुए कहा कि द पब्लिक एक व्यूज़ चैनल है जिसमें आम जनता से सीधे जुड़े मुद्दों पर बेबाकी से बात की जाती है। श्री सिंह ने बताया कि जैसे गौरव गाथा के अन्तर्गत भारतीय इतिहास के अनकहे रहस्यों से रुबरु कराया जाता है तो वहीं थर्ड आई में वर्तमान मुद्दे पर शोधपरक वार्ता की जाती है। कथाएं कमलेश की में जहाँ पुस्तकों की विवेचना होती है वहीं सिद्धार्थ की सूचना में सूचना के अधिकार की बातों से जागरुक किया जाता है और इसी के साथ शिक्षा के अधिकार की जानकारी रेमेन मैग्सेसे पुरस्कार विजेता संदीप पाण्डेय द्वारा दी जाती है। वेद वाक्य में भारतीय पुरातन संस्कृति की चर्चा करने के साथ-साथ समय-समय पर विशेष साक्षात्कार भी प्रसारित किए जाते है। उन्होंने बताया कि नए यू-ट्यूब चैनल द पब्लिक की टेस्टिंग के समय ही 500 से अधिक सब्स्क्राइबर इस चैनल के साथ जुड़ चुके है। तत्पश्चात मुख्य अतिथि शिव प्रताप शुक्ल ने नए यू-ट्यूब चैनल द पब्लिक का अनावरण किया।

लोकमत हिन्दी के सम्पादक आनन्द वर्धन सिंह ने लोकमत सम्मान के बारे में बतातें हुए कहा कि प्रतिवर्ष स्थापना दिवस के अवसर पर इस समारोह का आयोजन किया जाता है और इसका सिर्फ और सिर्फ एक ही मकसद है और वो यह कि मेहनत की इज्ज़त करते हुए इन्सान का सम्मान किया जाए जिससे पूरे समाज को एक स्वस्थ्य सन्देश देते हुए प्रेरित किया जा सके। लोकमत सम्मान के लिए पूरे प्रदेश से 15 श्रेणियों में नामांकन प्राप्त किए जाते है और फिर उन्हें उसी श्रेणी के सिद्धहस्तों की स्क्रीनिंग कमेटी के समक्ष रखा जाता है। ये कमेटियां प्रत्येक श्रेणी से 5 नामों का चुनाव करती है और फिर इन नामों को ज्यूरी के समक्ष प्रस्तुत किया जाता है। ज्यूरी कमेटी की बैठक में चयनित नामों पर अंतिम मोहर लगाई जाती है और इस प्रकार पूरी तरह निष्पक्ष चयन प्रक्रिया का सम्पादन पूर्ण होता है। आए हुए अतिथियों का अभिवादन करते हुए आनन्द वर्धन सिंह ने कहा कि आप सब के सहयोग से आज लोकमत सम्मान के छठवें संस्करण का आयोजन सम्भव हो पा रहा है।

इसके बाद बारी आई लोकमत सम्मान की जिस्में 16 विभूतियों को लोकमत सम्मान तथा जनक सम्मान व शक्ति सम्मान से मुख्य अतिथिकेन्द्रीय मंत्री शिव प्रताप शुक्ल ने नवाज़ा। सम्मानप्राप्तकर्ताओं को अंग वस्त्र, स्मृति चिन्ह, प्रशस्ति पत्र दे कर सम्मानित किया गया।

परमवीर चक्र विजेता शहीद वीर अब्दुल हमीद का भावपूर्ण परिचय देते हुए सुप्रिया श्रीनेत्र ने उनकी पत्नि श्रीमती रसूलन बीबी को मंच पर आमंत्रित किया। उनके मंच पर आते ही संगीत नाटक अकादमी का संत गाडगे हाँल तालियों की गड़गड़ाहट से गुंजाएमान हो उठा। भारत माता की जयजयकार के बीच श्रीमती रसूलन बीबी को शिव प्रताप शुक्ल तथा आनन्द वर्धन सिंह ने प्रशष्ति पत्र दे कर सम्मानित किया।

पूर्व आईएएस तथा एडवोकेट एस एन शुक्ल ने लोक प्रहरी के कार्यो का उल्लेख करते हुए संस्था के कामों का ब्यौरा दिया।

मुख्य अतिथि केन्द्रीय वित्त राज्यमंत्री शिव प्रताप शुक्ल ने लोकमत सम्मान की भूरि-भूरि प्रशंसा करते हुए कहा कि इस प्रकार केनिष्पक्ष आयोजन समाज को बल प्रदान करते है और इससे समाज के प्रति दायित्वों की पूर्ति भी हो जाती है। लोकमत हिन्दी और नए यू-ट्यूब चैनल द पब्लिक की सराहना करते हुए कहा कि लोकमत परिवार लगातार पत्रकारिता तथा सम्मान समारोह के माध्यम से समाज सेवा का अनूठा कार्य कर रहा है जिसके लिए सभी सदस्य बधाई के पात्र है।

जीएम ज्ञानेश तिवारी ने धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कहा कि हर साल 10 जून को इस एक दिवसीय महाआयोजन का सफलतापूर्वक समापन होता है लेकिन इसके पीछे हमारी टीम पूरे 364 दिन प्रयासरत रहती है। सभी को बार-बार धन्यवाद देते हुए उन्होंने कहा कि अगले वर्ष की तैयारियों के लिए हमारी टीम कल से ही काम शुरु कर देगी।

ग्रुप फोटो के बाद सभी अतिथियों ने हरियाली संस्था द्वारा लगाए गए वृक्ष भण्डारे का रसास्वादन करते हुए अल्पाहार गृहण किया।