धार्मिक अधिकारों के तहत महंत योगी से आशीर्वाद लिया, इसे बेवजह तूल न दिया जाए – सीओ प्रवीण सिंह

मैं अपने वर्दी और कर्तव्य के लिए सर्वदा निष्ठावान रहा हूं। इसलिए मेरे धार्मिक अधिकारों पर प्रश्न करके तूल देना फ़िज़ूल है – सीओ प्रवीण  सिंह 

गोरखपुर। गुरु पूर्णिमा के बाद मुख्यमंत्री से बावर्दी पैरों को मोड़कर झुककर आशीर्वाद लेने के बाद अचानक सुर्खियों में आये गोरखनाथ सीओ प्रवीण सिंह ने अपनी सफाई में कहा कि मैं भी एक इंसान हूं और मेरी भी एक आस्था है मेरे धार्मिक अधिकारों पर प्रश्न खड़ा कर मीडिया तूल न दे।

मालूम हो कि गुरु गोरखनाथ मन्दिर में गुरु पूर्णिमा के दिन अपने गुरु और वर्तमान में प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से  दीक्षा लेते समय ली गई तस्वीर के मीडिया में वायरल हो गई।हालांकि सीओ प्रवीण सिंह खुद अपने फेसबुक पर फोटो लगाया था लेकिन जब लोगो के कमेंट इनके इच्छा के विपरीत आने लगा तो अपनी गलती का एहसास करते हुए फेसबुक से तश्वीर हटा दिया।

सीओ प्रवीण सिंह ने कहा कि गुरु पूर्णिमा के दिन आदरणीय योगीजी मुख्यमंत्री के रूप में नही बल्कि महन्थ और गुरु के रूप में विद्यमान थे। अपने दायित्यों का निर्वहन करते हुए मैंने अपने संस्कारो के अनुसार गुरुपूर्णिमा के पावन दिन आशीर्वाद प्राप्त कर अपने धार्मिक दायित्व का निर्वहन किया है। इस पर बिना झिझक मुझे आत्मिय सन्तोष है।
उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि उनके द्वारा किसी कार्यक्रम, दौरे, अथवा कार्यालय में जाकर ऐसा नही किया गया है ।
अपने बयान में उन्होंने कहा कि मैं अपने वर्दी और कर्तव्य के लिए सर्वदा निष्ठावान रहा हूं। इसलिए मेरे धार्मिक अधिकारों पर प्रश्न करके तूल देना फ़िज़ूल है।