गोरखपुर में मेट्रोमैन का हुआ आगमन, प्रस्‍तावित कॉरीडोर का करेंगे मुयायना

गोरखपुर। मेट्रो मैन श्रीधरन गोरखपुर पहुंच चुके हैं। वह लखनऊ मेट्रो रेल कार्पोरेशन, जीडीए और प्रशासन के अधिकारियों के साथ गोरखपुर में मेट्रो के प्रस्‍तावित कॉरीडोर के निरीक्षण के लिए वहां पहुंंचे हैं।

गोरखपुर मेट्रो का डीपीआर राइट्स द्वारा तैयार किया जा रहा है। सूत्रों का कहना है कि मेट्रो का डीपीआर करीब-करीब तैयार कर लिया गया है। मेट्रो मैन श्रीधरन डीपीआर पर अधिकारियों के साथ मंथन करेंगे। मेट्रो कितने किलोमीटर शहर में दौड़ेगी, उसमें कितने डिब्बे होंगे इन सभी अटकलों पर विराम लगने की संभावना है।

लखनऊ मेट्रो रेल कारपोरेशन के चीफ आर्किटेक्ट रवि जैन और चीफ इंजीनियर रमेश कुमार मंगलवार को ही गोरखपुर पहुंच गए थे। दोनों अधिकारियों ने जीडीए के मुख्य अभियंता संजय कुमार सिंह और अन्य इंजीनियरों के साथ बैठक की। देर शाम दोनों अधिकारियों ने डीएम के.विजयेन्द्र पांडियन से मुलाकात की।

गोरखपुर में मेट्रो के लिए दो रूट प्रस्तावित हैं। गोरखपुर का पहला कॉरिडोर श्याम नगर से सूबा बाजार वाया विश्वविद्यालय गेट नंबर दो से जीएम रेलवे जोनल आफिस व मोहद्दीपुर तक होगा। वहीं दूसरा कॉरिडोर गुलरिहा से नौसढ़ चौराहा वाया असुरन चौक से धर्मशाला बाजार, कचहरी होगा। अधिकारियों के मुताबिक गोरखपुर मेट्रो 32.5 किमी. चलाई जानी है। हालांकि एलएमआरसी अफसर चाहते हैं कि पहला फेस बारह से पंद्रह किमी के बीच हो।
राइट्स और लखनऊ मेट्रो के अधिकारी बुधवार को जीडीए सभागार में आधा दर्जन विभागों के साथ कम्प्रेहेंसिव मूबिल्टी प्लान (सीएमपी) पर विस्तार से चर्चा करेंगे। विभिन्न विभागों के अधिकारी सीएमपी को लेकर अपना-अपना प्रस्तुतीकरण देंगे।

बता दें कि बीते 24 मार्च को राइट्स के अधिकारियों ने एयर फोर्स, गोरखपुर विकास प्राधिकरण, ट्रैफिक पुलिस, नगर निगम, लोक निर्माण विभाग, पूर्वोत्तर रेलवे तथा उत्तर प्रदेश परिवहन निगम के अधिकारियों के साथ चर्चा की थी। जिसके बाद मेट्रो को लेकर विभागवार सुझाव मांगे गए थे। बता दें कि मेट्रो के दो रूट चिन्हित हुए है। भविष्य में नौसढ़ से कालेसर बाईपास तक विस्तार देने पर भी चर्चा होगी।