NCP नेता नवाब मलिक ने कहा, भागवत जी जबरदस्ती पुरुष की नसबंदी कराना चाहते हैं

नवाब मलिक

जनसंख्या नियंत्रण के लिए दो बच्चों के कानून वाले बयान पर महाराष्ट्र में एनसीपी नेता नवाब मलिक ने कहा है कि यदि भागवत जी जबरदस्ती पुरुष की नसबंदी कराना चाहते हैं तो मोदीजी को ऐसा कानून बनाने दें

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ प्रमुख मोहन राव भागवत के जनसंख्या नियंत्रण के लिए दो बच्चों के कानून वाले बयान पर महाराष्ट्र में एनसीपी नेता नवाब मलिक ने कहा है कि यदि भागवत जी जबरदस्ती पुरुष की नसबंदी कराना चाहते हैं तो मोदीजी को ऐसा कानून बनाने दें। आपको बता दें कि संघ प्रमुख ने कहा था कि जनसंख्या वृद्धि विकराल रूप धारण कर चुकी है। इस मुद्दे पर संघ का रुख हमेशा दो बच्चों के कानून के पक्ष में रहा हालांकि यह जिम्मेदारी केंद्र सरकार की है। सरकार को ऐसा कोई कानून बनाना चाहिए जिससे जनसंख्या नियंत्रण हो सके।

ये भी पढ़े:न्यू यॉर्क के शख्स ने तीन पॉर्न वेबसाइटों (Porn websites) के खिलाफ किया मुक़दमा

नवाब मलिक

नवाब मलिक ने कहा कि मोहन भागवत जी दो बच्चों वाला कानून चाहते हैं। शायद उन्हें पता नहीं है कि महाराष्ट्र में पहले से ही इस पर कई कानून हैं और कई अन्य राज्य में भी है। यदि भगवत जी जबरदस्ती पुरुष की नसबंदी कराना चाहते हैं तो मोदीजी को ऐसा कानून बनाने दें। हमने अतीत में देखा कि इसके साथ क्या हुआ।

घर बैठे फ्रेश नॉनवेज मंगवाए वो भी मार्केट से कम दाम पर, अभी डाउनलोड करे “Lucknow Meat Wala” एंड्राइड ऐप

उत्तर प्रदेश में एक कार्यक्रम के दौरान मोहन भागवत ने जनसंख्या नियंत्रण कानून की वकालत करते हुये कहा था कि संघ के एजेंडे में इस विषय को शामिल किया जा चुका है हालांकि इस बारे में फैसला केन्द्र सरकार को लेना है। उन्होंने जिज्ञासा समाधान सत्र में स्वयं सेवकों ने उनसे राम मंदिर, सीएए, जनसंख्या नियंत्रण कानून और मथुरा काशी के मुद्दे पर संघ की भूमिका पर सवाल किए जिसका उन्होने बेबाकी से जवाब दिया।

ये भी पढ़े:शिरडी के निवासियों ने किया ऐलान, शिरडी शहर अनिश्चितकालीन के लिए बंद
नवाब मलिक

संघ प्रमुख ने कहा कि जनसंख्या वृद्धि विकराल रूप धारण कर चुकी है। इस मुद्दे पर संघ का रुख हमेशा दो बच्चों के कानून के पक्ष में रहा हालांकि यह जिम्मेदारी केंद्र सरकार की है। सरकार को ऐसा कोई कानून बनाना चाहिए जिससे जनसंख्या नियंत्रण हो सके। नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के बाद उपजी स्थिति पर आए सवाल पर उन्होंने कहा कि यह कानून देश हित में है, लेकिन कुछ लोग विरोध कर रहे। धारा 370 हटाने के बाद देश में उत्साह और आत्मविश्वास बना। इसके बाद सीएए अस्तित्व में आया जिसका विरोध शुरू हुआ। इसके बारे में भृमित लोगों को वास्तविकता से रुबरु कराना चाहिए। यह सबका दायित्व बनता है। लोगों की भ्रांतियां दूर की जानी चाहिए। इा मामले में पीछे हटने का प्रश्न ही नहीं है।

ये भी पढ़े:Auto Expo The Motor Show ऑटो एक्सपो द मोटर शो अगले माह ग्रेटर नोएडा में

उन्होंने कहा था कि चाहे अनुच्छेद 370 हटाने का फैसला हो या फिर नागरिकता संशोधन कानून बिल(सीएए)लागू करने का, इन सभी पर संघ पूरी तरह सरकार के फैसले के साथ खड़ा है। उन्होंने स्वयंसेवकों से कहा कि वह जागरूकता अभियान चलाकर इसके लिए लोगों को जागरूक करें।

राममंदिर का मुद्दा सुप्रीम कोर्ट से हल हो चुका है, अब इसमें संघ की क्या भूमिका होगी के उत्तर में भागवत ने कहा कि मंदिर निमार्ण के लिए ट्रस्ट निमार्ण होते ही संघ का काम पूरा हो जाएगा। उन्होंने कहा कि संघ की भूमिका इस प्रकरण में सिर्फ ट्रस्ट निमार्ण होने तक ही है। इसके बाद संघ खुद को इससे अलग कर लेगा। एक प्रश्न के उत्तर में संघ प्रमुख ने कहा कि काशी-मथुरा संघ के एजेंडे में न तो कभी थे और न ही कभी होंगे।