विद्यालय आवंटन काउंसिलिंग खत्म, जिले को मिले कुल 347 नए शिक्षक

81 शिक्षकों को विद्यालय आवंटित करते हुए नियुक्ति पत्र जारी किया गया। इस तरह से जिले को 347 नए शिक्षक मिले, इसमें से 300 से अधिक महिला शिक्षिकाएं हैं

गोरखपुर। अंतर जनपदीय स्थानांतरण के बाद जिले में आए शिक्षकों को विद्यालय आवंटित करने के लिए काउंसिलिंग हुई। जूनियर विद्यालय में सहायक, प्राथमिक विद्यालय में प्रधानाध्यापक के लिए शिक्षकों ने विद्यालयों का चयन किया। वहीं देवरिया नगर क्षेत्र से आए एक शिक्षक को नगर क्षेत्र का जूनियर विद्यालय आवंटित किया गया। दूसरे दिन कुल 81 शिक्षकों को विद्यालय आवंटित करते हुए नियुक्ति पत्र जारी किया गया। इस तरह से जिले को 347 नए शिक्षक मिले। इसमें से 300 से अधिक महिला शिक्षिकाएं हैं।

संख्या कम होने से डायट पर भीड़ कम रही लेकिन पुलिस की व्यवस्था पहले दिन की अपेक्षा ज्यादा रही। काउंसिलिंग के लिए 83 शिक्षकों को उपस्थित होना था। इनमें से जूनियर हाई स्कूलों में साइंस के सहायक अध्यापक के रूप में 39 शिक्षक, प्राथमिक विद्यालय में प्रधानाध्यापक के रूप में 41 शिक्षक व नगर क्षेत्र जूनियर हाई स्कूल के लिए एक शिक्षक शामिल थे। पर, प्रधानाध्यापक पद के दो शिक्षकों ने पदावनत होकर सोमवार को ही सहायक अध्यापक के रूप में अपनी काउंसिलिंग करा ली थी।

जिसके कारण मंगलवार को 39 शिक्षकों ने ही प्रधानाध्यापक पद के लिए विद्यालयों का चयन किया। सभी 81 शिक्षकों को तत्काल नियुक्ति पत्र जारी कर दिया गया। डायट प्राचार्य जयप्रकाश की अध्यक्षता में गठित कमेटी में जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी बीएन सिंह, राजकीय इंटर कॉलेज की शिक्षक व प्रशासन के प्रतिनिधि के रूप में एक अधिकारी और एमडीएम प्रभारी दिपक पटेल शामिल रहे। प्रदेश में यह पहला जिला था, जहां काउंसिलिंग के दौरान लॉक होने वाले विद्यालयों को डिस्प्ले किया गया।

देर से ज्वाइन करने पर कटेगा वेतन

विद्यालय आवंटन के साथ ही सभी शिक्षकों को नियुक्ति पत्र दे दिया गया है। साथ ही उनसे कहा गया है कि 48 घंटे के अंदर आवंटित विद्यालय पर जाकर ज्वाइन कर लेना है। जो शिक्षक ज्वाइन करने में देरी करेगा उनका वेतन काट दिए जाएंगे।

इसके साथ ही नए शिक्षकों के जाने से खुले विद्यालयों पर जल्द ही संबंधित क्षेत्र के खंड शिक्षा अधिकारी व जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी औचक निरीक्षण करेंगे। उपस्थिति न होने पर कार्रवाई की जाएगी।