SC : ने रामजन्म भूमि विवाद पर मध्यस्थता कमेटी को दिया 15 अगस्त तक का समय

रामजन्म भूमि विवाद

जस्टिस कलीफुल्ला ने गोपनीय रिपोर्ट में बताया है कि रामजन्म भूमि विवाद मामले में प्रगति हो रही है, हम आपको नहीं बता सकते

अयोध्या। रामजन्म भूमि विवाद पर मध्यस्थता कमेटी ने सुप्रीम कोर्ट से अगस्त तक के लिए और समय मांगा है, जिसके जवाब में कोर्ट ने कमेटी को 15 अगस्त तक का समय दे दिया। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हम प्रक्रिया को शॉर्ट सर्किट क्यों करें। मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली संविधान पीठ ने कहा कि समिति के अध्यक्ष जस्टिस कलीफुल्ला ने गोपनीय रिपोर्ट में बताया है कि मामले में प्रगति हो रही है, हम आपको नहीं बता सकते।

ये भी पढ़े: 100 से अधिक हिंदू कैदी दिल्ली की जेल में रमज़ान के दौरान रख रहे हैं रोज़ा

निर्मोही अखाड़ा ने मध्यस्थता पर आशंका प्रकट की लेकिन कोर्ट ने उसे खारिज कर दिया

साथ ही कोर्ट ने कहा कि हम समिति को समय दे रहे हैं। निर्मोही अखाड़ा ने मध्यस्थता पर आशंका प्रकट की लेकिन कोर्ट ने उसे खारिज कर दिया। मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई, एसए बोबडे, डीवाई चन्द्रचूड़, अशोक भूषण और एसए नजीर की पांच सदस्यीय संविधान पीठ इस मामले पर सुनवाई कर रही है।

न्यायालय ने पक्षों को 30 जून तक पैनल के समक्ष आपत्तियां दर्ज कराने की अनुमति भी दी है

न्यायालय ने मामले की सुनवाई के दौरान कहा कि मध्यस्थता प्रक्रिया के बीच कोई नहीं आएगा। न्यायालय ने शीर्ष अदालत के पूर्व न्यायाधीश एफएमआई कलीफुल्ला की अगुवाई वाली तीन सदस्यीय समिति को 15 अगस्त तक का समय दिया। आपको बता दे की न्यायालय ने पक्षों को 30 जून तक पैनल के समक्ष आपत्तियां दर्ज कराने की अनुमति भी दी है।

ये भी पढ़े:उत्तर प्रदेश में सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारी के 6000 पदों पर हो रही है भर्तियां, 35 हजार होगी सैलरी

6 मार्च के आदेश के बाद पहली बार इस मामले की सुनवाई 10 मई को हुई

अयोध्या भूमि के मालिकाना हक से जुड़े विवाद के सर्वमान्य समाधान की संभावना तलाशने के लिए शीर्ष अदालत के पूर्व न्यायाधीश एफएमआई कलीफुल्ला की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय मध्यस्थता समिति के गठन के 6 मार्च के आदेश के बाद पहली बार इस मामले की सुनवाई 10 मई को हुई। इस समिति के अन्य सदस्यों में आध्यत्मिक गुरू और आर्ट आफ लिविंग के संस्थापक श्रीश्री रविशंकर और वरिष्ठ अधिवक्ता श्रीराम पांचू शामिल थे।रामजन्म भूमि विवाद

समिति ने गुरुवार 9 मई को अपनी अंतरिम रिपोर्ट कोर्ट को दे दी है

शीर्ष अदालत ने मध्यस्थता के लिए गठित इस समिति को फैजाबाद में बंद कमरे में कार्यवाही करने और इसे आठ सप्ताह में पूरा करने का निर्देश दिया था। इस मामले के सभी पक्षों ने मध्यस्थता से समाधान तलाशने का विरोध किया था और कोर्ट से कहा था कि वह ही इस विवाद में फैसला दे। लेकिन कोर्ट ने कहा था कि आप एक बार आपसी सुलह के बैठिये तो सही।

ये भी पढ़े:प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ममता बनर्जी पर साधा निशाना,जानिए क्या कहा

समिति ने गुरुवार (9 मई) को अपनी अंतरिम रिपोर्ट कोर्ट को दे दी। इसमें उन्होंने बताया है कि यह मुद्दा आपसी बातचीत से सुलझ सकता है या नहीं है। वहीं मध्यस्थता प्रक्रिया के दौरान और पक्षों का क्या रुख रहा है। हालांकि तीन सदस्यीय मध्यस्थता समिति ने सुप्रीम कोर्ट से 15 अगस्त तक का समय मांगा है।

बस 1 क्लिक पर जानें देश-दुनिया की ताजा-तरीन खबरें Download करें संस्कार न्यूज़ चैनल की Application नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें या फिर play store पे sanskarnews सर्च करें- लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज- https://fb.com/sanskarnewslko/