घर घर जाकर खोजे जायेंगे टीवी मरीज -CMO

सीएमओ डा0 वीके सिंह ने कहा कि शासन के मंशानुसार 2025 तक भारत को क्षय मुक्त बनाना है। इस हेतु पोलियो अभियान की तरह घर-घर जाकर टीमें टीबी के लक्षणों की जानकारी लेंगें

श्रावस्ती। स्क्रिय क्षय रोगी खोज अभियान के तहत रविवार को मुख्य चिकित्साधिकारी की अध्यक्षता में चिकित्साधिकारियों की एक कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला को संबोधित करते हुए सीएमओ डा0 वीके सिंह ने कहा कि शासन के मंशानुसार 2025 तक भारत को क्षय मुक्त बनाना है। इस हेतु पोलियो अभियान की तरह घर-घर जाकर टीमें टीबी के लक्षणों की जानकारी लेंगें। संबधित क्षेत्र के लोगों से अपील है कि टीमों का सहयोग सही जानकारी देकर करें।

पुनरीक्षित राष्ट्रीय क्षय नियंत्रण कार्यक्रम के अंतर्गत जनपद में चलाए जा रहे सघन क्षय रोगी खोज अभियान 19 जून से 2018 से 29 जून 2018 तक चलाया जाऐगा। इस क्रम में सीएमओ डा0 वीके सिंह की अध्यक्षता में चिकित्सकों की प्रशिक्षण कार्यशाला का आयोजन किया गया। श्री सिंह ने कहा कि सभी चिकित्सक अभियान में सक्रिय रुप से भाग ले। डीटीओ डा0 एम0ए0 खान ने बताया कि जिले में चलने वाले अभियान के प्रथम चरण में टीबी यूनिट भिनगा की कुल 10 हजार, मल्हीपुर की 40 हजार, गिलौला की 40 हजार एवं इकौना की 40 हजार आबादी चिन्हित की गई है। स्वास्थ्य परीक्षण स्वास्थ्य टीमो द्वारा घर-घर भ्रमण करके किया गया। घर घर भ्रमण के दस कार्य दिवस के उपरान्त कुल एक लाख 30 हजार लोगो में टीबी के लक्षण की पहचान की जानी है। प्रशिक्षक टीबी एवं चेस्ट रोग विशेषज्ञ डा0 एम0एल वर्मा ने प्रशिक्षण में मौजूद सभी चिकित्सको को बताया कि विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार उत्तर प्रदेश में 50 फीसदी लोगो में टीबी के बैक्टीरिया है। स्वास्थ्य टीमें घर-घर जाकर ऐसे लोगों को खोजने का काम करेंगी। प्रशिक्षण में डा उदयनाथ, डा मुकेश मातनहेलिया, एसएमओ डा प्रिया बंसल, समस्त अधीक्षक सहित डा0 विनय, डा0, आशीष, डा0 रवीन्द्र, डा0 शरद, डीपीसी रवि मिश्रा, एसटीएलएस अनुपम श्रीवास्तव, एसटीएस ब्रजेश यादव सहित काफी संख्या में चिकित्सक मौजूद रहे।