अलीगढ़: मासूम ट्विंकल शर्मा के इंसाफ़ के लिए युवाओं की अनोखी मुहिम

मासूम बच्ची ट्विंकल शर्मा के साथ दरिंदगी और जघन्य हत्या को लेकर देशभर में दोषियों को फांसी की सजा देने की मांग की जा रही है

गोरखपुर। अलीगढ़ के टप्पल में मासूम बच्ची ट्विंकल शर्मा के साथ दरिंदगी और जघन्य हत्या को लेकर देशभर में गुस्से का इजहार किया जा रहा है, ऐसे में मुख्यमंत्री के शहर गोरखपुर मैं भी दोषियों को फांसी की सजा देने की मांग की जा रही है।

शहर के युवाओं ने भूखे प्यासे रहकर यहां से सुबह से ही अपने शरीर पर तमाम तरीके की तख्तियां लगाकर आम जनमानस को जागरूक कर रहे हैं, और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ व केंद्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से कठोर कानून बनाने की मांग कर रहे हैं, क्रिकेट और फिल्म जगत की हस्तियों के बाद राजनीति के बड़े धुरंधरों ने भी इस मामले पर सरकार को घेरना शुरू कर दिया है।

किसी ने प्रदेश में जंगलराज होने की बात कही, तो किसी ने पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान लगाया है, ऐसे में मृतका ढाई साल की बच्ची ट्विंकल शर्मा को इंसाफ दिलाने की आवाज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गृह जनपद गोरखपुर से उठने लगी है। इस घटना से आहत होकर युवाओं ने अपने शरीर और मोटरसाइकिल पर मृतिका ट्विंकल शर्मा को इंसाफ दिलाने और “ट्विंकल हम शर्मिंदा हैं, तेरे कातिल अभी जिंदा है”, “बलात्कारियों  को फांसी हो” जैसे स्लोगन तख्तियों पर लिखकर आम जनमानस को जन जागरूक कर रहे हैं, और दोषियों को सख्त से सख्त सजा दिलाने की मांग कर रहे हैं।

ये भी पढ़े: गोरखपुर: टीम इंडिया के जीत के लिए किया गया हवन पूजन

गोरखपुर शहर के युवा अंकित कुमार दुबे ने बताया, कि अलीगढ़ के टप्पल में जो मासूम बच्ची ट्विंकल शर्मा के साथ दरिंदगी के बाद उसकी हत्या कर दी गई उसे इंसाफ दिलाने के लिए मैं सुबह से ही घर से भूखा प्यासा रह कर पूरे गोरखपुर में जन जागरण के लिए निकला हूं, लोगों को जागरुक कर रहा हूं, कि अगर यह घटना अलीगढ़ में हुआ है, तो आने वाले समय में गोरखपुर में भी हो सकता है, इसके लिए हम लोग जागरुक कर रहे हैं।

ट्विंकल शर्मा

जिससे हमारी आवाज और बुलंद हो हमारी आवाज सरकार तक पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी का यह घर है, मैं उनसे भी यह मांग करना चाहता हूं, कि केंद्र की मोदी सरकार से भी यह मांग करना चाहता हूं, कि जो आपने नारा दिया था बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ वह नारा आज बिल्कुल धूमिल होता नजर आ रहा है, जब हमारे देश में तीन साल 7 साल 4 साल और 9 माह की बच्चियां सुरक्षित नहीं है, तो हम यह नारा किस उद्देश्य देते हैं, बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का।

सरकार से ये मांग कर रहे, कि ऐसे बलात्कारियों के लिए विशेष कानून बनाया जाए, और उन्होंने कहा, कि जनता की अदालत में ऐसी दरिंदों को पेश कर देना चाहिए, जिससे एक नजीर बने, ताकि हैवान ऐसी हैवानियत करने से पहले 100 बार सोचे जैसे आप ने वोटिंग के लिए जनता को अधिकार दिया है, वैसे ही बलात्कारियों को सजा देने के लिए भी जनता को अधिकार देना चाहिए ।

वीडियो देखे-

बस 1 क्लिक पर जानें देश-दुनिया की ताजा-तरीन खबरें Download करें संस्कार न्यूज़ चैनल की Application नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें या फिर play store पे sanskarnews सर्च करें- लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज- https://fb.com/sanskarnewslko/
Loading...