Fake Degrees : फर्जी डिग्रियों से हो जाये सावधान ट्रैक की जाएगी यूनीक आईडी

Fake-Degrees

Fake Degrees : उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा फर्जी डिग्रियों पर नौकरी नहीं मिल पाएगी। जिसके लिए यूनिवर्सल लर्नर पासपोर्ट बनवाया जा रहा है। जिसमे छात्र की पूरी डिटेल होगी।

Fake Degrees : उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा जारी फर्जी डिग्रियों या अंकपत्र के माध्यम से नौकरी मिलना है मुश्किल हो सकता है उन पर केस। और अब विद्यार्थियों की पढ़ाई-लिखाई की डिटेल के लिए राज्य सरकार द्वारा यूनिवर्सल लर्नर बनवाया जा रहा है। इस पासपोर्ट में न केवल उनकी शिक्षा के बारे में विवरण रहेगा साथ ही यूनिवर्सल लर्नर पासपोर्ट में सभी प्रमाणपत्र व अंकपत्र शिक्षा संस्थानों की ओर से अपलोड रहेंगे। जिससे युवा नौकरी का आवेदन करते समय फर्जी अंकपत्र या प्रमाणपत्र नहीं लगा सकते क्योंकि उसका वेरिफिकेशन यूनिवर्सल लर्नर पासपोर्ट से हो जायेगा।

इसे भी पढ़े : Copper Vessels: तांबे के बर्तन में पानी पीना है स्वास्थ्य के लिए लाभप्रद क्या है वैज्ञानिक कारण

राज्य सरकार ये प्रस्ताव पारित करने जा रही है। उत्तर प्रदेश ये नियम लाने वाला पहला राज्य बनेगा। राष्ट्रीय शिक्षा नीति में विद्यार्थियों की ट्रैकिंग नियम है। इस योजना को बहुत जल्द ही लागू किया जाएगा। जिसकी शुरुआत कक्षा एक से आठ तक होगी लेकिन भविष्य में इसे प्ले ग्रुप से लेकर परास्नातक और प्रोफेशनल पढ़ाई में भी लागू किया जाएगा। जिसका विवरण, नियम व शर्ते सहित अन्य काफी सारी तैयारियां पूरी की जा चुकी हैं। इस प्रस्ताव को लाने के लिए जल्द ही अपील की गयी है । यूपी में निजी, सरकारी, व्यावसायिक स्तर पर पढ़ाई करने वाले पांच करोड़ विद्यार्थी हैं।

इसके लाभ क्या मिलेंगे

इस प्रस्ताव के आने से फर्जी प्रमाणपत्रों के ज़रिये नौकरी पाना मुश्किल रहेगा इस नियम के आने के बाद अंकपत्रों प्रमाणपत्रों का सत्यापन यूनिवर्सल लर्नर पासपोर्ट से होगा। जिसके सत्यापन के लिए अंकपत्र या प्रमाणपत्र विभिन्न स्नातक या परास्नातक विश्वविद्यालयों को नहीं भेजा जायेगा। लर्नर पासपोर्ट में एक बच्चे का नामांकन दो जगह नहीं हो पायेगा। जिससे नामांकन सही तरीके से हो पायेगा । एक ही समय में दो डिग्रियां नहीं मिल पाएगी। स्कॉलरशिप के लिए फेक आवेदन नहीं हो पायेगा क्योंकि फर्जी अंकपत्र, जाति या आय प्रमाणपत्र नहीं लग पायेगा। भविष्य में यूनीक आईडी से ही सत्यापित विद्यार्थियों को चयन करके स्कॉलरशिप देने का प्रावधान रहेगा। इस लर्नर पासपोर्ट के माध्यम से बच्चे की पढ़ाई से लेकर नौकरी पाने तक उसकी डिग्री ट्रैक हो जाएगी।

लर्नर पासपोर्ट द्वारा सत्यापित डिग्री

विद्यार्थी को क्लास फर्स्ट में प्रवेश लेने के बाद उसकी डिटेल लेकर उसे एक यूनीक आईडी प्राप्त हो जाएगी साथ ही डिजिटल माध्यम से सारा विवरण रहेगा। जिसमे उसके सभी कक्षाओं के अंकपत्र, प्रमाणपत्र और अन्य डिग्री के साथ प्रमाणपत्र भी संस्थान द्वारा सत्यापित किये जायेंगे । जब बच्चा अपनी पढ़ाई पूरी कर पायेगा उसके पासपोर्ट पर पूरी जानकारी रहेगी। जिससे शिक्षकों और अभिभावकों को भी बच्चे की प्रगति देखने में सहायता मिल जाएगी। किसी भी स्तर के सत्यापन के लिए डिजिटल पासपोर्ट के माध्यम से जानकारियां प्राप्त हो जाएंगी। जिसमे सरकारी, निजी, व्यावसायिक सारे सेक्टर मौजूद रहेंगे। जिसके लागू होने के बाद अपने प्रमाणपत्रों या अंकपत्रों की फाइल की जगह केवल लर्निंग पासपोर्ट दिखाना होगा। डिजिटल पासपोर्ट पूरी तरह से सुरक्षित रहेगा।

वीडियो में खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

Click Here & Download Now The Lucknow Meat Wala