जब ससुर ने ही बाप बनकर किया विधवा बहू का कन्यादान

बहू का दूबारा घर बसा कर पेश की मिसाल

देहरादून I देहरादून यह बात अक्सर फिल्मों में देखी जाती है कि किसी ससुर ने अपनी विधवा बहु का पिता बनकर कन्‍यादान किया हो। लेकिन देहरादून में ऐसी मिसाल देखने को मिली है । यहां एक सास-ससुर ने पिता बनकर अपनी विधवा बहू की धूमधाम से शादी की और कन्‍यादान भी किया।

रोल पाने के लिए वरुण धवन को डायरेक्टर के सामने करना पड़ा शर्टलेस होकर डांस, वीडियो हुई वायरल

देहरादून के बालावाला में विजय चंद और कमला परिवार के साथ रहते हैं। वर्ष 2014 में विजय चंद के बड़े बेटे संदीप की शादी कविता से हुई। परिवार में खुशियां थी, सब कुछ ठीक चल रहा था। अचानक वर्ष 2015 में संदीप की हरिद्वार में सड़क हादसे में मौत हो गई। मानो इस परिवार की खुशियों पर किसी की नजर लग गई। वियज चंद के परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा। इसके बाद पूरे परिवार ने ना खुद हिम्‍मत हारी और न ही अपनी बहू कविता को हारने दी।
इस बीच विजय चंद और कमला ने कविता की सहमति से उसके लिए लड़का तलाशना शुरू किया। उन्‍होंने ऋषिकेश निवासी तेजपाल सिंह को कविता के लिए पंसद दिया। दोनों परिवार की सहमति से तेजपाल और कविता की शादी हो गई। विजय चंद और कमला ने कविता को अपनी बेटी की तरह ससुराल के लिए विदा किया।इस बीच विजय चंद और कमला ने कविता की सहमति से उसके लिए लड़का तलाशना शुरू किया।

लखनऊ:दादा मियाँ दरगाह से 111 वें उर्स की लाइव कवरेज सिर्फ संस्कार न्यूज़ के यू-ट्यूब चैनल पर-

उन्‍होंने ऋषिकेश निवासी तेजपाल सिंह को कविता के लिए पंसद दिया। दोनों परिवार की सहमति से तेजपाल और कविता की शादी हो गई। विजय चंद और कमला ने कविता को अपनी बेटी की तरह ससुराल के लिए विदा किया।मेरे सास ससुर ने बहुत प्‍यार और सम्‍मान दिया। कविता बताती हैं कि मैं कभी भी अपने सास-ससुर को अकेला नहीं छोड़ना चाहती थी। कहती हैं कि उन्‍होंने मुझे बहुत प्‍यार और सम्‍मान दिया। मैंने जब जिसकी मांग की, मेरी हर बात को मेरे ससुराल पक्ष ने पूरा किया। मुझे अपनी बेटी की तरह ही प्‍यार दिया। इस घटना के बाद मैं अपने माता-पिता के पास चली जाती तो शायद मेरे सास ससुर टूट जाते।

543 करोड़ के बजट वाली फिल्म ‘ROBOT 2.0’ का पहले दिन रहा ये हाल

विजय चंद बताते हैं कि जब हमारे बेटे का निधन हुआ, तो हर किसी ने हमें कविता को वापस भेजने के लिए कहा। क्‍योंकि लोगों के हिसाब से वह परिवार के लिए दुर्भाग्‍यपूर्ण रही, लेकिन हम हमेशा उसके साथ खड़े रहे। मैंने उसकी शादी करने अपनी बेटी के रूप में उसका कन्‍यादान किया। वह हमारे परिवार से कभी ना अलग होने वाला हिस्‍सा है। विजय बताते हैं कि मेरी इच्‍छा है और मैं आशा करता हूं कि हमारा समाज इस घटना से कुछ सीख ले। हमारी बहू, हमारी बेटी की तरह है। वह दुनिया में सभी सम्‍मान और आशीर्वाद की हकदार हैं।

बस 1 क्लिक पर जानें देश-दुनिया की ताजा-तरीन खबरें Download करें संस्कार न्यूज़ चैनल की Application नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें या फिर play store पे sanskarnews सर्च करें-

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज-
https://fb.com/sanskarnewslko/

बस 1 क्लिक पर जानें देश-दुनिया की ताजा-तरीन खबरें Download करें संस्कार न्यूज़ चैनल की Application नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें या फिर play store पे sanskarnews सर्च करें- लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज- https://fb.com/sanskarnewslko/