पशुपालन से जुड़ कर महिलाएं बने आर्थिक रूप से स्वावलम्बी: डॉ. डीके शर्मा

 

गोरखपुर । जिला मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डॉ. डीके शर्मा ने कहा कि महिलाएं खेती किसान के साथ पशुपालन कर आर्थिक रूप से सशक्त हो सकती हैं। उन्होंने महिलाओं को पशुपालन विभाग की योजनाओं से अवगत कराया। डॉ. शर्मा ने प्रदेश सरकार द्वारा महिलाओं की सुरक्षा के लिए उठाए गए कदमों से अवगत कराया। इसके साथ महिलाओं को विभागीय योजनाओं की जानकारी देकर उन्हें जागरूक किया।

डॉ. शर्मा, मिशन शक्ति अभियान के अंतर्गत एपीपीएल ट्रस्ट एवं हेरिटेज फाउंडेशन द्वारा पशुपालन विभाग के सहयोग से आयोजित महिलाओं की एक दिनी कार्यशाला को संबोधित कर रहे थे। पशु चिकित्सालय कुसम्ही ग्राम कुसम्ही कोठी में संवाद में काफी संख्या में महिलाओं एवं पुरुषों ने हिस्सा लिया।

डॉ. शर्मा ने कहा कि महिलाओं के लिए सुरक्षा के साथ ही आर्थिक स्वावलंबन भी ज़रूरी है। इसके लिए ग्रामीण स्तर पर पशुपालन के महत्व को समझा जाए। सरकार की विभिन्न योजनाओं का लाभ लेते हुए आगे बढ़ा जाए। महिलाओं को स्वयं सहायता समूह गठित करने और व्यवस्थित और वैज्ञानिक तरीके से बकरी पालन और गो-पालन को अपनाने का आह्वान किया। समुदाय को संबोधित करते हुए पशु चिकित्साधिकारी कुसुम्ही डॉ. सरोज चौधरी ने पशुओं में कृत्रिम गर्भाधान, टीकाकरण के बारे में विस्तृत जानकारी दी।

पशु चिकित्साधिकारी डॉ. संजय श्रीवास्तव ने मुर्गी पालन और निराश्रित गौवंश संरक्षण और उससे आय के तरीकों के बारे में जानकारी दी। इससे पहले हेरिटेज फाउंडेशन के मनीष कुमार और नरेंद्र मिश्र ने उपस्थित महिलाओं को हेल्पलाइन और महिला सुरक्षा के लिए सरकारी टोल फ्री नंबरो के उपयोग और उनके अधिकारों के बारे में जानकारी दी। कार्यक्रम में बड़ी संख्या में ग्रामीण महिलाएं और युवा उपस्थित थे।

इस कार्यक्रम में स्थानीय स्तर पर अवधेश पांडेय, मुकेश, गौरव, एपीपीएल ट्रस्ट के डॉ राजेश गुप्ता समेत आंगनबाड़ी कार्यकर्त्री भी उपस्थित रहीं।

बस 1 क्लिक पर जानें देश-दुनिया की ताजा-तरीन खबरें Download करें संस्कार न्यूज़ चैनल की Application नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें या फिर play store पे sanskarnews सर्च करें- लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज- https://fb.com/sanskarnewslko/
Loading...